क्या इन्सान नहीं हैं नेवरी और पीपरा चौड़ा के मुसलमान ?

Share Button
Read Time:0 Second

pipra chauraरांची (मुकेश भारतीय) झारखंड की राजधानी रांची परिधि क्षेत्र में बसे पीपरा चौड़ा मुस्लिम बस्ती को दरिंदों ने उजाड़ दिया। हैवानियत का नंगा नाच करने वाले पड़ोस के नेवरी गांव के मुसलमान ही थे। एक जमीन दलाल की दूसरे साथी जमीन दलाल ने ही रात अंधेरे लेन देन के क्रम में हत्या कर दी। इससे नेवरी गांव के लोग उपद्रवी हो उठे और पीपरा चौरा बस्ती के घरों में लूट पाट मचाने के बाद उसे आग के हवाले कर दिया। आज समूचे  गांव राख में हर तरफ राख ही राख दिखाई दे रहा है। अगर भीड़ हिंसक होती तो खून खराबा करती लेकिन यह भीड़ लूटेरी थी, लूटपाट के बाद साक्ष्य मिटाने को घरों में आग लगा दी।

इस बरसात के मौसम में पीड़ित लोग सप्ताह भर से भूखे नंगे बिलबिला रहे हैं। न किसी के तन पर कपड़ा बचा है और न खाने को एक एक कतरा अनाज। आततायियों ने एक अपराध और अपराधी की सजा पूरे गांव को दे डाली। उनका सब कुछ छीन लिया। कहते हैं कि रमजान के दिनों में सच्चे मुसलमानों का दिल पाक साफ होता है। कोई भी बेईमानी हराम कहलाती है। लेकिन क्या पीपरा चौरा बस्ती हो या नेवरी गांव, यहां के लोग मुस्लमान नहीं हैं  या फिर इंसान नहीं हैं?

यह सबाल उन मुल्ला, मौलवी, कठमुल्लों से लेकर सत्ता और विपक्ष की राजनीति करने वाले बगुला भगतों से है, जो एक अदना घटना को लेकर ही स्वार्थ की तुफान खड़ा कर देते हैं।

वेशक पीपरा चौड़ा गांव की स्थिति काफी भयावह है। लेकिन, उनके घावों पर सीएम रघुवर दास के दो बोल तो दूर, उनके पार्टी के स्थानीय सांसद और विधायक तक उसे गांव के दर्द में झांकना गवारा नहीं समझा है। और न ही विपक्ष का भी कोई कोई छोटा या बड़ा नेता ने सुध ली है। जबकि यह गांव राष्ट्रीय उच्च मार्ग एनयएच 33 से सटे है।

सबसे बड़ी बात कि मुस्लिम समुदाय का भी कोई संगठन या संस्था ने भी इस घटना पर कोई दुःख जताया है और न ही कोई मदद की पहल की है। सिर्फ यहां के न्यूज चैनल चीख रही है। रोजाना अखबार अपने पन्ने रंग रहे हैं। इसका किसी पर कोई प्रभाव पड़ता नहीं दिख रहा है।

सबाल उठता है कि अगर पीड़क और पीड़ित एक ही मुस्लिम समुदाय के न होते तो क्या सत्ता सुख भोगने वाले दल या वोट की राजनीति करने वाले विपक्ष के धुरंधर यूं ही खामोश रहते। अगर खुद को भीतरी और दूसरे को बाहरी बता कर दूसरे समुदाय के साथ दरिंदगी का ऐसा खेल होता तो क्या मुल्ले-मौलवी चुप बैठते ?

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

41 साल से 1 रूपये 04 पैसे की रखवाली में एबीसी को छूट रहे पसीने !
‘इंडिया टीवी’ के रजत शर्मा की क्रिकेट में इंट्री, चुने गये DDCA  अध्यक्ष
पूर्व मुखिया ने दो पत्रकार को स्कार्पियो से रौंद कर मार डाला
कलाम क्यों नहीं कर पाये 2002 के दंगों के बाद गुजरात दौरा !
केन्द्रीय मंत्री जयराम नरेश की सरेआम गुंडागर्दी
आखिर चाहता क्या है सुप्रीम कोर्ट ?
अगवा डॉक्टर की हत्या, SP ने दी थी फिरौती देने की सलाह !
फेसबुक से लोग चुन-चुन कर हटा रहे इस 'लेडी ब्रजेश ठाकुर' की तस्वीरें
जान हथेली पर लिये पढ़ने जाने को विवश हैं बच्चें !
धन्य है बिहार के नेता... धन्य है बिहार के पत्रकार...
दैनिक भास्कर ने आतंकी के बाद बीएसएनएल कर्मी बताया!
बिहार में निष्पक्ष और निर्भीक पत्रकारिता की आवश्यकता : मंत्री प्रेम कुमार
नालंदा में खुलेगी चाणक्य आईएएस एकेडमी की शाखा
नालंदा में गजब हो गया, अंतिम सुनवाई के दिन लोशिनिका से रेकर्ड गायब, मामला राजगीर मलमास मेला सैरात भू...
नालंदा के थानों में जी हुजूरी करते चौकीदार और अपराधी बने डीएम-एसपी
राजगीर के इस भू-माफिया के खिलाफ किसी क्षण हो सकती है FIR, जद में कई अफसर-कर्मी भी
अंततः भाजपा ने रघुवर दास को सौंपी झारखंड की कमान
भाजपा नेता ने लिखा- गांधी नहीं, नेहरू को मारना चाहिए था !
अनिल अंबानी को तिलैया UMPP में नहीं दिखे अच्छे दिन
पत्रकार पुत्र की निर्मम हत्या की कड़ी निंदा, डीजीपी गंभीर, भेजी उच्चस्तरीय जांच टीम
यशोदाबेन को लेकर कितने बेदर्द हैं मोदी!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
mgid.com, 259359, DIRECT, d4c29acad76ce94f
Close
error: Content is protected ! www.raznama.com: मीडिया पर नज़र, सबकी खबर।