कोई भी धर्मग्रंथों पर ट्रेडमार्क अधिकार का दावा नहीं कर सकता :सुप्रीम कोर्ट

Share Button

supreme-court

सुप्रीम कोर्ट ने अपने एक फैसले में कहा कि रामायण या कुरान जैसे धर्मग्रंथों के नामों पर कोई भी व्यक्ति अपना दावा और उन्हें वस्तुओं व सेवाओं की बिक्री के लिए ट्रेडमार्क के तौर पर इस्तेमाल नहीं कर सकता है।

धर्मग्रंथ के नाम का ट्रेडमार्क के तौर पर इस्तेमाल नहीं

फैसला सुनाते हुए कोर्ट ने कहा, ‘कुरान, बाइबल, गुरु ग्रंथ साहिब, रामायण आदि जैसे कई पवित्र एवं धार्मिक ग्रंथ हैं। यदि कोई पूछे कि क्या कोई व्यक्ति वस्तुओं या सेवाओं की बिक्री के लिए किसी धर्मग्रंथ के नाम का ट्रेडमार्क के तौर पर इस्तेमाल कर सकता है तो इसका जवाब है नहीं।’

लोगों की भावनाएं आहत हो सकती हैं

बेंच ने यह भी कहा कि ईश्वर या धर्मग्रंथों के नाम का इस्तेमाल ट्रेडमार्क के तौर पर करने की अनुमति देने से लोगों की भावनाएं आहत हो सकती हैं। सुप्रीम कोर्ट का यह फैसला बिहार स्थित लाल बाबू प्रियदर्शी की एक अपील पर आया है, जिन्होंने रामायण शब्द का ट्रेडमार्क अगरबत्ती व इत्र बेचने के लिए मांगा था। बौद्धिक संपदा अपीलीय बोर्ड ने अपीलकर्ता के खिलाफ आदेश दिया था, जिसको उन्होंने कोर्ट में चुनौती दी थी।

रामायण शब्द महर्षि वाल्मिकी द्वारा लिखित एक ग्रंथ का नाम है

सुप्रीम कोर्ट ने अपने 16 पन्ने के फैसले में कहा, ‘रामायण शब्द महर्षि वाल्मिकी द्वारा लिखित एक ग्रंथ का नाम है और इसे हमारे देश में हिंदुओं का एक धार्मिक ग्रंथ माना जाता है। इसलिए किसी भी वस्तु के लिए रामायण शब्द का ट्रेडमार्क के तौर पर पंजीकरण कराने की अनुमति नहीं दी जा सकती है।’

Share Button

Relate Newss:

बाड़मेर के कथित भाजपाईयों के खिलाफ रिपोर्टिंग की सजा पटना में मिली
सीबीआई ने किया मधु कोड़ा की जमानत का विरोध
अटपटा लग रहा है रांची की ‘लव-जेहाद’ का एंगल !
समूचे बिहार में जारी है शराब रैकेट, सीएम का गृह जिला नालंदा अव्वल !
सपा विधायक लक्ष्मी गौतम और पति के बीच सरेआम मारपीट !
आखिर पत्रकार वीरेन्द्र मंडल के पिछे हाथ धोकर क्यों पड़ी है सरायकेला पुलिस
अमित-मोदी के लिए डैंजर सिम्बल बन कर उभरे हैं लालू
40 के दशक में दुनिया का सबसे शक्तिशाली देश होगा भारत : भटकर
हिन्दुस्तान की कुराह चला भास्कर, नालंदा एसपी के हवाले से छाप दिया ऐसी मनगढ़ंत खबर
पहले 'जय जवान,जय किसान' और अब 'मर जवान,मर किसान'
पूर्व मुखिया ने दो पत्रकार को स्कार्पियो से रौंद कर मार डाला
बिगबी फैमिली को डेढ़ लाख रुपये पेंशन देगी अखिलेश सरकार
रिटायर्ड फौजी को ब्लैकमेल करने के आरोप में टाइम्स नाऊ और सहारा समय का स्ट्रिंगर धराया, एएनआई का स्ट्...
3 साल बाद भी CID को नहीं मिला शरतचंद्र हत्या कांड का सुराग, CBI जांच की मांग
डुमरी कस्तूरबा आवासीय विद्यालय की एक छात्रा पर फेंका तेज़ाब, हालत गंभीर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...