केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा- jnu मामले को लश्कर आतंकी हाफिज सईद का समर्थन

Share Button

home minister rajnath singh

नयी दिल्ली : जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) विवाद गरमाता जा रहा है. इसी बीच गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने आज बयान देते हुए मामले को आतंकी हाफिज सईद से जोड़ दिया है. उन्होंने आज कहा कि जेएनयू में जो भी हुआ उसे लश्कर के आतंकी हाफिज सईद का भी समर्थन प्राप्त हुआ है, जो काफी दुर्भाग्यपूर्ण है.

गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि जेएनयू में जो भी हुआ वह काफी दुर्भाग्यपूर्ण है. उन्होंने कहा कि मैं पहले भी कह चुका हूं जो भी देश विरोधी गतिविधियों में लिप्त पाया जाएगा उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी. मैंने साफ-साफ कहा है कि इस मामले में जिसके भी लिप्त होने के सबूत मिलेंगे उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी लेकिन निर्दोष को परेशान नहीं किया जाएगा.

Nobody should try to achieve political benefits from such incidents: HM Rajnath Singh on JNU campus row pic.twitter.com/lNVF8qiXDq

— ANI (@ANI_news) February 14, 2016

गृहमंत्री ने कहा कि राष्ट्रभक्ति से जुड़ा सवाल कहीं भी खड़ा होता है तो सभी को एकजुट होना चाहिए. मैं सभी राजनीतिक पार्टियों से अपील करता हूं कि देश के खिलाफ नारेबाजी करने वालों के खिलाफ हम एक स्वर में विरोध करें. किसी को भी इसे राजनीतिक फायदे के लिए उपयोग नहीं करना चाहिए.

JNU ki jo ghatna hui hai, use LeT ke Chief Hafiz Saeed ka samarthan praapt hua hai. ye bhi bahut durbhagyapurna hai: HM Rajnath Singh 

— ANI (@ANI_news) February 14, 2016

आपको बता दें कि इससे पहले शनिवार को भाजपा ने जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) के छात्र नेता की गिरफ्तारी की आलोचना करने वाले राहुल गांधी और विपक्ष को जमकर कोसा और कहा कि वे आतंकी संगठन लश्कर ए तैयबा की भाषा बोल रहे हैं जो शहीदों का अपमान है और जिससे राष्ट्र विरोधी ताकतों का मनोबल बढ़ेगा.

भाजपा के राष्ट्रीय सचिव श्रीकांत शर्मा ने कल ट्विटर वॉल पर लिखा कि कांग्रेस और उसके नॉन-सीरियस पॉलिटिशियन युवराज राहुल गांधी हाफ़िज़ सईद जैसे आतंकियों की भाषा न बोलें. उन्होंने लिखा कि यह हमारे शहीदों और सशस्त्र बलों का अपमान है जो सीमा पर अपने प्राणों का बलिदान करते हैं और इससे राष्ट्र विरोधी ताकतों का मनोबल बढ़ेगा.

श्रीकांत शर्मा ने कल ट्विटर वॉल पर लिखा कि जेएनयू की स्वायत्तता को सबसे पहले ठेस तो राष्ट्रविरोधी नारे लगाने वाले छात्रों ने पहुंचाई है औरअब राहुल गांधी एंड कंपनी इसे ठेस पहुंचा रही है. राहुल गांधी की दिक्कत ये है कि वह पब्लिक से डिस्कनेक्टेड, अहंकार में डूबे रहते हैं, इसलिए वह नकारात्मक राजनीति पर उतर आए हैं.

गौर हो कि दिल्ली पुलिस आयुक्त बीएस बस्सी ने शनिवार को केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात बीएस बस्सी ने जेएनयू परिसर में संसद हमले के दोषी अफजल गुरू को फांसी के खिलाफ आयोजित कार्यक्रम के संदर्भ में चल रही जांच के बारे में उनको जानकारी दी. इस मामले के संदर्भ में जेएनयू छात्र संघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार को शुक्रवार को गिरफ्तार किया गया था। इसको लेकर विरोध प्रदर्शन शुरू हो गया.  

Share Button

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...