कुख्यात बिन्दू सिंह की बेऊर जेल में जमकर पिटाई

Share Button

स्वंयभू बिहार केसरी उपनाम रखने वाला कुख्यात बिन्दू सिंह आतंक का पर्याय बनता जा रहा है। बीते कई वर्षो से पटना के बेऊर जेल में बंद बिंदू सिंह जेल से ही बिहार और झारखंड में अपना आपराधिक साम्राज्य चला रहा है।

bindu singh1990 से पहले बांकीपुर और बाद में बेऊर जेल सहित बिहार-झारखंड की कई जेलों में एक लंबे अर्से से बंद बिन्दू सिंह को 1993 एक बार पंद्रह दिनों का पेरोल तब मिला था जब जहानाबाद स्थित उसके गांव दौलतपुर में माओवादियों ने उसके भाई फेकन सिंह, पिता और बहन की हत्या कर दी थी।

आज का भाकपा माओवादी तब मजदूर किसान संग्राम समिति नामक नक्सली संगठन के नाम से जाना जाता था जिसकी पूरे मध्य बिहार में पैठ थी। फेकान सिंह की हत्या भी नक्सलियों ने विभत्स तरीके से किया था।

एक रात पूरे दौलतपुर गांव को घेरने के बाद फेकन के पिता और बहन को जहां नक्सलियों ने घर के बाहर गोली मार दी वहीं छत पर सोए और हमेशा राइफल लेकर सोने और चलने वाले फेकन सिंह ने एक घंटे तक नक्सलियों से अकेले लोहा लिया। जब उसकी गोलियां खत्म होन को आई तो वह अपने घर के एक कमरे में बंद हो गया। पूराने जमाने का बना इस घर का दरवाजा इतना मजबूत था कि नक्सली लाख प्रयास के बाद भी उसे तोड़ नहीं पाए।

बाद में नक्सलियों ने उस कमरे की छत पर एक सुराख बनाकर उस कमरे के अंदर जलती हुई लुकबारी फेकने लगे। कमरे में फैलते धुएं से जब फेकन सिंह का दम घुटने लगा तो वह अपने पास बची तीन-कारतूस को अपनी रायफल में लोड कर दरवाजा खोल फायरिंग करता हुआ बाहर की ओर भागा तभी नक्सलियों ने उसे भून डाला और बाद में उसका सर काटकर गांव के ही एक पेड़ में टांग दिया।

1993 में घटी इस घटना के समय बिन्दू सिंह पटना के बांकीपुर जेल में बंद था जहां से वह अपने पिता भाई और बहन के श्राद्धकर्म के लिए पंद्रह दिनों के लिए पेरोल पर रिहा हुआ था। बिन्दू सिंह के पेरोल पर रिहा होने के बाद उसके कई शागिर्द हथियारों के साथ लगातार पंद्रह दिनों तक बिन्दू सिंह के साथ साढ की तरह रहे।

इन्हीं शागिर्दों में एक था मखदुमपुर थाना के अपरपुर गांव निवासी नौलेश शर्मा जो नक्सलियों की नजर पर चढ़ गया।

वर्ष 1994 में नक्सलियों ने अमरपुर गावं और नवलेश के घर को देर रात घेर कर छत पर सोए नवलेश शर्मा, दमहुआ गांव निवासी भाली शर्मा सहित पांच लोंगों की हत्या कर दी। जेल में बंद बिन्दू सिंह को इसके बाद एक बार बीच में और पुन: 2002 में जमानत मिली।

इस बीच कंकड़बाग में बेगुसराय निवासी एक दारोगा के मकान पर कब्जा कर रहने वाले बिन्दू सिंह की ही राह पर चलने वाले उसके बेटे की हत्या उसी के मकान के नीचे के दूकानदार ने झड़प के बाद कर दी। जेल से जमानत पर निकलने के बाद बिन्दू सिंह ने उस दूकानदार की हत्या कर दी।

वर्ष 2002 में बिन्दू सिंह को स्टेनगन और अन्य हथियारों के साथ जहानाबाद के उसी अमरपुर गांव से गिरफ्तार किया गया जहां उसके पांच साथियों की नक्सलियों ने जिंदा जला डाला था। उसके बाद से बिन्दू सिंह लगातार जेल में हैं पर उसके आतंक में कोई कमी नहीं है।

8 अक्टूबर 2010 को भी पुलिस ने बिन्दू के वार्ड में छापेमारी की थी तब पुलिस ने उसके पास से 35 हजार नकद और गले में पहने लाखों रुपये मूल्य के सोने के चेन बरामद किए थे। जेल से ही अपना आपराधिक साम्राज्य चला रहे बिन्दू सिंह का नेटवर्क बिहार से लेकर झारखंड तक फैला है।

बीते दिनों बिन्दू सिंह के कई गुर्गे की गिरफ्तारी के बाद पटना पुलिस इस कुख्यात को लेकर काफी चिंतित है।

सूत्र बताते हैं कि बीते 12 जून को बेऊर जेल पहुचे एसएसपी और सिटी एसपी से भी बिन्दू उलझ गया जिसके बाद पुलिस ने बिन्दू सिंह और अजय वर्मा की इतनी पिटाई कर दी कि दोनों अपराधी अबतक ठीक से चल भी नहीं पा रहें हैं।

बहरहाल अस्सी के दशक में नक्सलियों के खिलाफ लड़ाई लड़ने के लिए हथियार उठाने वाला बिन्दू सिंह की 90 के शुरुआती दशक में अपराध की दुनिया में प्रवेश के बाद राज्य में कितनी सरकारें आई और गई, पर बिन्दू सिंह के आतंक में कोई कमी नहीं आई। जेल रुपी अभेद्द किले में महफूज बिन्दू आज भी जेल से ही अपना साम्राज्य चला रहा है।

……….पटना से विनायक विजेता की रिपोर्ट

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *