काला धन नहीं, काली मुद्रा बाहर लायेगी नोटबंदी

Share Button

सरकार के बड़े नोटों को चलन से बाहर करने के निर्णय से हालांकि काला धन पूरी तरह से तो समाप्त नहीं होगा, लेकिन इससे बाजार में प्रचलित काली मुद्रा पर अंकुश जरूर लग जाएगा।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बाजार में प्रचलित 500 और 1,000 रुपये के बड़े नोटों की कानूनी वैधता समाप्त करने की 8 नवंबर को घोषणा की थी, जो उसी दिन रात्रि 12 बजे से प्रभावी हो गई।

इसके बाद अभी तक चलने वाले नोट 11 नवंबर के बाद महज कागज के टुकड़े रह जाएंगे। हालांकि लोग अपनी पहचान बताकर एक निश्चित राशि अपने बैंक खाते में जमा करा सकते हैं।

‘ट्रांसपेरेंसी इंटरनेशनल इंडिया’ में भारतीय शाखा के प्रमुख एवं कार्यकारी निदेशक रामनाथ झा कहते हैं कि सरकार का फैसला काली मुद्रा के खिलाफ है, काले धन के खिलाफ नहीं। ट्रांसपेरेंसी इंटरनेशनल इंडिया’ भ्रष्टाचार के खिलाफ काम करने वाली अंतरराष्ट्रीय संस्था है।

रामनाथ झा ने बताया कि जिस पैसे पर सरकार को कोई टैक्स नहीं दिया जाता है अथवा सरकार से छुपा कर रखा जाता है, वह काला धन कहलाता है। काला धन गैर-कानूनी अथवा अवैध तरीके से एकत्रित किया हुआ हो सकता है। यह नोटों की शक्ल में हो सकता है, प्रापर्टी में लगाया गया हो सकता है, आभूषण के रूप में हो सकता है। बेनामी सौदों में भी काले धन का जमकर प्रयोग होता है। सरकार को बिना कर अदा किये रुपयों के रूप में मौजूद नगदी को काली मुद्रा कहते हैं, जबकि काली मुद्रा के जरिये बनायी गयी चल-अचल संपत्ति काला धन कहलाती है।

रामनाथ झा ने बताया कि मोदी सरकार के इस फैसले से सिर्फ बाजार में मौजूद काली मुद्रा पर फर्क पड़ेगा, काले धन पर नहीं।

उन्होंने बताया कि काली मुद्रा के निवेश से जो चल अचल संपत्ति बनायी गयी है उस पर कोई असर नहीं पड़ेगा। उन्होंने बताया कि एक ओर तो काली मुद्रा या नोटों को निशाना बनाकर काली मुद्रा पर अंकुश लगाने का प्रयास किया गया है, वहीं दूसरी ओर 2,000 रुपये का नोट जारी करके इसे संदिग्ध भी बना दिया गया है। बड़े नोट जारी करने के एक-दो दशक बाद फिर से बाजार में काला धन आने की आशंका भी है।

झा ने बताया कि सरकार का यह कदम ज्यादातर फेक इंडियन करेंसी नेटवर्क’ एफआईसीएन को ध्वस्त करने के लिए उठाया गया है।

रामनाथ झा ने सरकार की दृढ़ राजनीतिक इच्छाशक्ति और इस प्रकार के कड़े कदम की सराहना करते हुये कहा कि देश की अर्थव्यवस्था से अघोषित पैसे को खत्म करने के लिए अभी कई कड़े कदम उठाने की जरूरत है।

Share Button

Relate Newss:

पत्रकारिता का यह कैसा वीभत्स चेहरा !
महामहिम का KGBV छात्राओं से आह्वान- स्पोटलेस बनो
पत्रकार पंकज मिश्रा को मारने के आरोप में जदयू विधायक का एक करीबी धराया
स्टोरी आइडिया और मीटिंग
पत्रकार सोमारू नाग बाइज्ज़त बरी, सवालों के घेरे में बस्तर पुलिस
देखिए आज तक की डिस्क्लेमर हद, रिजल्ट पूर्व नीतिश-मोदी के विजयी भाषण तक गढ़ डाले
अंततः सरायकेला पुलिस ने पत्रकार वीरेंद्र मंडल को जेल में डाल ही दिया !
डॉक्टर ने पांच परिजनों को जहर की सूई देकर मार डाला!
Ex PM नेहरू और अटल जी भी रहे हैं IFWJ के सदस्य !
देश में बढ़ती असहिष्णुता के खिलाफ आमिर खान भी प्रबुद्ध वर्ग में शामिल
District Administration, Nalanda पर सबिता देवी के मामला का सच
अपने-अपने 'औरा' को लेकर टकरा रहे हैं मोदी और प्रियंका !
बिहार चुनाव हार के बाद मोदी सरकार का बड़ा फैसला, मीडिया में 26 कीजगह 49 फीसदी होगा विदेशी निवेश
भगवान बिरसा जैविक उद्दान में लूट और मनमानी का आलम
देखिये हजारीबाग सेंट्रल जेल में भाजपा नेताओं की ढिठई

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...