कालाधन का मीडिया अर्थशास्त्र और छुटभैय्या रिपोर्टर

Share Button

-अरुण साथी-

नोटबंदी ने एक बार फिर पत्रकारिता को कठघरे में खड़ा कर दिया है। अंधभक्ति और अंधविरोध। चैनल पे यही दिखता है। मैं एक ग्रामीण रिपोर्टर हूँ। गांव-देहात का रहने वाला, छुटभैय्या रिपोर्टर। मेरी बात को स्पेस कहाँ मिलेगी। फिर भी अपना अनुभव लिख दे रहा हूँ, शायद कुछ नजरिया बदले।

आठ तारीख की रात जब नोट बंदी हुयी तो उसी रात 60 बर्षीय शम्भू स्वर्णकार (बरबीघा, बिहार) का निधन हो गया। सुबह मुझे भी जानकारी मिली। मैं छानबीन कर ही रहा था कि एक टीवी ने ब्रेक कर दिया, नोट बंदी से स्वर्ण व्यवसायी का दिल का दौरा पड़ने से निधन!! मैंने जानकारी जुटाने के लिए उसके एक पड़ोसी मित्र को कॉल किया तो वह भड़क कर कहा “भाई वह एक गरीब आदमी है, उसके पास 100/50 नहीं तो 500/1000 का नोट बंद होने से उसे कैसे दिल का दौरा पड़ेगा! तुम मीडिया वालों को तो अब जूते से पिटाई होगी।”

खैर, फिर मैंने एक स्वर्ण व्यवसायी से संपर्क साधा तो वह भी भड़का हुआ था। कहा कि वह सोना जोड़ने का काम करनेवाले कारीगर और मेरा 350 रुपये उधार सौ तकादा में नहीं दिया। उसके बेटे ने भी इसे खारिज कर दिया।अख़बार ने खबर दी “स्वर्ण व्यवसायी की मौत की नोट बंदी से होने की उडी अफ़वाह!!!”

लेखकः अरुण साथी बिहार के जाने-माने पत्रकारों में शुमार हैं।
लेखकः अरुण साथी बिहार के जाने-माने पत्रकारों में शुमार हैं।

समझिये, नोटबंदी का असर मकान बनाने वाले दिहाड़ी मजदूरों पे कितना पड़ा इस खबर को बनाने  लिए मैं अपने यहाँ मजदूर मंडी गया। लगा की यहाँ तो विपत्ति होगी, वैसा कुछ नहीं मिला। ज्यादातर मजदूर काम पे चले गए, कुछ बचे तो लगा की इनसे ही खबर बना लेता हूँ, पर देखिये, एक बुजुर्ग बयान देने लगे की नोट बंदी की मार पड़ी है और काम नहीं मिल रहा तभी बगल से एक मजदूर भुनभुनाया “ई रिटायर्ड माल हैं सर, कौन काम देगा।” मैं लौट आया। हालाँकि थोड़ा असर मजदूरों पे हुआ ही है, जैसा की लाजिम है पर बकौल मजदूर सब एडजस्ट हो गया है। 500 का नोट 400 में साहूकार ले लेता है।

मैंने पहले भी कहा है “नोटबंदी का अर्थशास्त्र मैं नहीं समझ पाता। तात्कालिक परेशानी थोड़ी है पर लोगों के माथे में यह बात बैठ गयी है कि यह देशहितार्थ है, सो तकलीफ झेल लेंगे। गरीब भी खुश है कि यह अमीरों को मार है।

हाँ, यह भी निश्चित है कि कुछ लोग है ही जो वास्तव में परेशान है। वो बोलते है। उनकी आवाज भी उठती है पर नोटबंदी पे एकबार फिर मीडिया (चैनल) कठघरे में है। इसे आमलोगों में वायरल इस जुमले से समझा जा सकता है कि “नोटबंदी से ndtv पे लोग मर रहे है! आजतक पे थोड़े परेशान है! जी न्यूज़ पे लोग खुश है!!

मेरे जैसा छुटभैय्या रिपोर्टर सबकुछ समझ भी नहीं सकता! मीडिया हॉउस का अपना अर्थशास्त्र है। कालाधन का। निश्चित ही यह उसपे भी प्रहार है। कई न्यूज़ चैनल तो बिल्डरों और माफिया के पैसे से चमक रहा है सो उनको क्यों ख़ुशी होगी? बाकि राजनीति है, मीडिया हॉउस का अपना अपना। कुछ मीडिया मर्डोक भी है। पर देश आम आदमी की ताकत के चलता है, चलता रहेगा..नोटबंदी भला है या बुरा यह भविष्य की गर्त में है..पर नेताओं की बौखलाहट आम आदमी की ख़ुशी बन गयी है..बाकि एकरा से जादे माथा हमरा नै हो..राम राम जी।

Share Button

Relate Newss:

किसान-आत्महत्या नहीं, राजनीतिक व्यवसायी की मौत !
MLA अमित कुमार की CBI जांच की मांग पर केन्द्रीय गृहमंत्री के रवैये की आलोचना
लुटेरे थैलीशाहों के लिए ‘अच्छे दिन’ ?
भगवा-माओवाद का आक्रमण था सरैया दंगा!
सेलरी नहीं दे सकते तो बंद करो अपनी ठगी और गोरखधंधे की दुकान
अगर साईज पता हो तो पाठकों को अंडरगार्मेंटस भी बांट दे अखबार
फर्जी फेसबुक प्रोफाइल-पेजों में अव्वल हैं हेमंत सोरेन !
पुलिस ने 2 लाख की दंड राशि की जगह वीरेन्द्र मंडल को फर्जी केस में यूं भेजा जेल
भूमि अधिग्रहण अध्याधदेश का विरोध का कारण
हिन्दी के ही एफएम चैनल कर रहे हैं हिन्दी का बेड़ा गर्क :राहुल देव
अर्नब गोस्वामी पर 500 करोड़ के मानहानि का दावा
अरविंद प्रताप को मिला 'नारद मुनि सम्मान'
बेटे की सरेआम 'करतूत' तो देखी, अब बाप की ऑनएयर 'बदतमीजी' भी देखिए
चैनल खोल पत्रकारों को यूं चूना लगा फरार हुआ JJA का चर्चित अध्यक्ष
कितना जरूरी है सोशल मीडिया पर अंकुश

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...