कायर-अपराधी भी सुसाइड बाद अखबार के विज्ञापन में बन गया आदर्श !  

Share Button
Read Time:2 Minute, 15 Second

“बिहार के एक हिन्दी अखबार में शोक संदेश के नाम से निकला एक विज्ञापन पूरे बिहार में चर्चा का विषय बना है। लोग समझ नहीं पा रहे हैं कि अखबार वाले अपने ऐसे कुकृत्यों से समाज खासकर युवाओं के बीच कैसा संदेश देना चाह रहे हैं”

पटना। हमारे देश में आत्महत्या कायरता की निशानी मानी जाती है, लेकिन विकास उर्फ बंटी सिंह सरकार नामक जिस युवक ने पटना के बेऊर इलाके में मोबाइल फोन से अपनी गर्लफ्रेंड से बात करते और उस बातचीत को लाईव करते हुए बीते 29 जनवरी को एक अवैध देशी पिस्टल से खुद को गोली मार आत्महत्या कर ली थी।

उसी युवक को वैसे अखबार ने ही किंग मेकर बताते हुए उसके संबध में शोक संदेश और आज शाम 4 बजे बेऊर से अनीसाबाद तक के कैंडल मार्च के आयोजन से संबंधित विज्ञापन प्रकाशित किया है, जिस अखबार ने बीते 30 जनवरी को उसकी आत्महत्या से संबंधित खबर भी प्रकाशित की थी।

पुलिस सूत्रों के अनुसार बंटी सिंह सरकार ‘किंग आफ बाइकर्स’ गिरोह का सरगना था। 

पुलिस ने उसकी मौत के बाद उसके बाइकर्स गिरोह के अन्य काफी सदस्यों के नाम हासिल कर रखे हैं, जिनकी तलाश पुलिस कर रही है।

बंटी सरकार ने अपने फेसबुक पेज के वॉल पर भी कई ऐसी बातें लिख रखी हैं जो उसके स्वभाव और उसकी कार्यशैली को परिलक्षित करती है।

अपनी मौत के कुछ दिन पूर्व ही उसने अपने वॉल पर लिखा था कि ‘हथियार की जरुरत उनको होती है जिनको अपनी जान का डर होता है। हमारी जान तो खुद दूसरों के लिए आफत है।’ (स्रोतः खबर मंथन)

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

दैनिक हिन्दुस्तान मामले में सुप्रीम कोर्ट से अवमानना और सीबीआई जांच की मांग
भैया, मैं जरा बौद्धिक गरीब हूं
रिपोर्टर आरजू बख्स को इजलास नोटिश से नालंदा पुलिस का उभरा विकृत चेहरा
आर्गेनाइजर ने लिखा, हिंदू विरोधी हैं FTII प्रदर्शनकारी छात्र !
शहाबुद्दीन से पूछा सबाल तो भड़के समर्थक ने मीडियाकर्मी को पीटा
केन्द्रीय मंत्री जयराम नरेश की सरेआम गुंडागर्दी
काला धन नहीं, काली मुद्रा बाहर लायेगी नोटबंदी
वन्यजीव संरक्षण के दिशा में सराहनीय है मेनका के कदमः जाजू
न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया के आउटपुट एडिटर बने अतुल अग्रवाल
सुनीति रंजन दास: रामबिलास पासवान संपोषित एक गुंडा !
मीडिया मालिकों के कालाधन पर क्यों नहीं पड़ा छापा : आलोक मेहता  
नालंदा में शिक्षा माफियाओं का बड़ा रैकेट, भारी संख्या में यूं बहाल हो गये फर्जी शिक्षक
संदर्भ पीपरा चौड़ा कांडः बाहरी और भीतरी के आगोश में झारखंड
खूंटी में विकास के ये कैसे रास्ते हैं ?
करोड़ो के पार्श्व नाथ की मूर्ति तोड़ने वाले दो अपराधी धराया
देखिये पटना की सड़क पर एसपी शिवदीप लांडे की 'लंठगिरी'
खुद अव्वल दर्जे के विवादित छवि के हैं राजगीर के ये कथित जनर्लिस्ट !
अमन मार्च कांड के गरीब अभियुक्तों का खर्च उठाएंगे पूर्व विधायक पप्पू खान
पांच्यजन्य अखबार के विरुद्ध कार्यवाही क्यों नहीं?
सीएम और उनके सलाहकारों को सदबुद्धि दें भगवन
रांची प्रेस क्लब का सदस्यता अभियान में दारु बना यूं ब्रांड एंबेसडर
पाकिस्तान में जमी है इन देश द्रोहियों की जड़ें
'वेब जर्नलिज्म' से अखबारों तथा मठाधीश पत्रकारों को खतरा
कनफूंकवे खुश तो रघुवर खुश...!
लोकसभा चुनाव के नये समीकरण गढ़ती 'आप’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...