कनफूंकवों ने रघुवर की बांट लगा दी…..

Share Button
Read Time:5 Minute, 29 Second

कनफूंकवे प्रसन्न है, उन्होंने वह काम किया, जो आज तक कोई न कर सका, यहां तक की विपक्षी दलों के नेताओं ने भी नहीं। मुख्यमंत्री रघुवर दास दोनों तरफ से गये। जनता की ओर से तो पहले ही जा चुके थे, अब जो उदयोगपतियों से जो सूचनाएं आ रही है, उनलोगों ने भी मोमेंटम झारखण्ड से दूरी बनाना शुरु कर दिया है।

पूर्व के अनुभवों और स्वयं द्वारा करायी गयी सर्वेक्षण रिपोर्टों के आधार पर इन उद्योगपतियों ने आज भी भारत के गुजरात, आंध्रप्रदेश, महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश और कर्णाटक को निवेश करने के लिए बेहतर राज्य माना है, जिस कारण मोमेंटम झारखण्ड में पहुंचनेवाले उदयोगपतियों की संख्या धीरे-धीरे कम होती जा रही है।

वरिष्ठ लेखक-पत्रकार कृष्ण बिहारी मिश्र अपने फेसबुक वाल पर……

स्वयं झारखण्ड सरकार ने जो वीवीआइपी लिस्ट जारी की है, और जिन्हें राजकीय अतिथि बनाया गया है, उनकी संख्या मात्र 39 है, जिसमें अकेले दस तो सिर्फ भारत सरकार में शामिल मंत्रियों की संख्या है। उसके बाद चार केन्द्रीय पदाधिकारी, एक भाजपा सांसद और पांच दूसरे देशों के प्रतिनिधि, तथा अन्य अस्पताल चलानेवाले और तीन-चार उद्योगपति है, जिनकी भारत में साख उतनी नहीं, जितनी बताई जा रही है। इसी बीच जेएसडब्लयू ग्रुप के चेयरमैन सज्जन जिंदल आने से रहे और अडानी ग्रुप के चेयरमैन गौतम अडानी की आने की संभावना भी कम है, हालांकि इनके आने की चर्चा जोरों से फैलाई जा रही है तथा झारखण्ड के वरीय अधिकारी उन्हें बुलाने के लिए एड़ी-चोटी भी एक किये हुए है। इसी बीच राज्य सरकार ने उन्हें भी वीवीआईपी बनाया है, जिनके खिलाफ झारखण्ड महालेखाकार ने कड़ी टिप्पणी की है।

इधर इन पूंजीनिवेशकों को बुलाने के लिए पूरे रांची शहर को इस प्रकार सजाया गया है कि पूछिये मत। सजावट ऐसी है कि जैसे लगता है कि मुख्यमंत्री रघुवर दास के आराध्यों का आगमन रांची में हो रहा है। ड्राइवरों और सेवकों को अंग्रेजी पढाया और सिखाया जा रहा है। व्यवसायियों के समूह को कहा जा रहा है कि जिधर से निवेशक गुजरे, उनपर पुष्पवृष्टि कराने की वे व्यवस्था करें, घरों और दुकानों को सजाये, ठीक उसी प्रकार जैसे अयोध्या में राम आये थे और जैसे राम की अगुवाई में अयोध्या जगमगा उठा था, क्या मानसिकता है राज्य सरकार की? हद हो गयी…

इसके उलट झारखण्ड पीपुल्स पार्टी ने 16 फरवरी को झारखण्ड बंद का आह्वान किया है, हालांकि इस बंद का प्रभाव नहीं पड़ेगा, फिर भी ये बुलाया गया बंद झारखण्ड के लोगों के जनाक्रोश को अभिव्यक्त कर रहा है। इसी बीच मोमेंटम झारखण्ड के विरोध में 14 फरवरी को रांची मोरहाबादी मैदान के महात्मा गांधी की प्रतिमा के समक्ष महाधरना बुलाने का आह्वान आदिवासी संगठनों ने कर दिया है, जबकि 15 फरवरी को राज्य के सभी मुख्यालयों में व विभिन्न क्षेत्रों में सीएम के पूतला फूंकने का आह्वान इस संगठन ने किया है। इसका मतलब है कि मोमेंटम झारखण्ड को लेकर राज्य के कई संगठन अब मुखर होने लगे है।

इधर रांची के वरीय अधिकारियों ने भी कुछ ऐसे-ऐसे निर्णय ले लिये है, जिससे मुख्यमंत्री रघुवर दास हंसी के पात्र बनते जा रहे है, जैसे – रांची में निषेधाज्ञा लागू करना, किसी भी प्रकार के प्रदर्शन और धरने पर रोक लगा देना। ये सारी बातें बहुत कुछ बता दे रही है कि मोमेंटम झारखण्ड को लेकर सरकार कितनी डरी और कितनी सशंकित है?

इसी बीच एक वरीय अधिकारी ने बड़े ही हंसी अंदाज में कल प्रातः हमसे कहा कि मिश्र जी, लोग कुछ भी कर लें, ये मोमेंटम झारखण्ड होगा, ये अलग बात है कि पूंजी निवेश कितना होगा? या होगा भी या नहीं… और फिर उक्त महोदय ने अपनी गाड़ी स्टार्ट करायी और चल दिये, अपने गंतव्य की ओर… और मैं देखता रह गया। शायद उक्त अधिकारी ने इशारों ही इशारों में सब कुछ बयां कर दिया था…

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

शिक्षा मंत्री ने कोडरमा डीडीसी को कहा- ‘बेवकूफ कहीं के...अंदर जाओगे’   
दैनिक भास्कर ने छापी फिर बकवास, लोग सड़क पर उतरे
बिहारशरीफ सदर अस्पताल के कैदी वार्ड में पुलिस-कैदी का यह कैसा सुराज? देखिये वीडियो
बीफ का बिजनेस करने वाले 95% हिन्दू, विधायक और सांसद चलाते हैं बीफ कंपनियां
मेड इन चाइना होगी मोदी सरकार की पटेल स्टैचू ऑफ यूनिटी
भाजपा के 160 रथों को टक्कर देगा लालू का 1000 टमटम !
रिपोर्टिंग के दौरान ट्रॉमा के ख़तरे से बचने के लिए कुछ परामर्श
जस्टिस डीएन उपाध्याय बने झारखंड लोकायुक्त
त्रिकोणीय साझीदार बनाता है रेडियो :जेटली
नरेंद्र मोदी से बेहतर हैं आदित्यनाथ, उन्हें बनने चाहिए अगले पीएमः राम गोपाल वर्मा
नहीं पकड़ा गया ‘रागांग्रावियो घोटाले’ का सरगना
संसद को लेकर आडवाणी व्यथित, बोले- इस्तीफा देने को मन कर रहा है
ऑनलाइन फ्रॉड का फैलता नया मायाजाल
झारखंड के 30 पूर्व विधायक सम्मानित, प्रदीप यादव बने उत्कृष्ट विधायक
Ex PM नेहरू और अटल जी भी रहे हैं IFWJ के सदस्य !
खनन माफियाओं के खिलाफ कोई नहीं सुनता
शराब बंदी के बाद गांजा के धुएं में उड़ता बिहार
इस लोकसभा चुनाव में खाता तक नहीं खुला 1652 पार्टियों का !
गया के कोठी थाना प्रभारी की गोली मारकर हत्या
जानिये वरिष्ठ पत्रकार कृष्ण बिहारी मिश्र के खिलाफ FIR पर क्या बोले धुर्वा थाना प्रभारी
क्या हम बिहारी मराठी तमिलियन मणिपुरी नहीं हो सकते ?
मुखिया के खिलाफ सड़क पर उतरे लोग, एसपी से बोले- ‘निर्दोष है पत्रकार’
नीतीश जी इ अंधभक्त को समझाईये कि गोरैया बाबा कब से खून पीने लगे
पीआरडी में विशिष्ट अतिथि बनकर आता था महापापी ब्रजेश ठाकुर
मौजूदा पत्रकारिता के दौर में खोजी खबरों का खेल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...