..और ऐसे ‘पौर’ विहीन हुआ गया नगर निगम

Share Button

उधर महापौर आपराधिक मामले में पहले से फरार, इधर उप-महापौर पटना में रंगरेलियां मनाते गिरफ्तार

imagesबिहार में  53 वार्ड और 53 पार्षदों वाला गया नगर निगम अब ‘पौर’ विहीन हो गया। गया नगर निगम की महापौर विभा देवी एक आपराधिक मामले में दिसम्बर महीने से ही फरार चल रही हैं जबकि उप-महापौर ओंकार नाथ उर्फ मोहन श्रीवास्तव और दो अन्य पार्षदों को सोमवार की रात पटना के होटल में रंगरेलियां मनाते हुए पुलिस ने धर दबोचा।

gaya meyarगया की महापौर विभा देवी पर गया के कोतवाली थाना में सरकारी काम में बाधा और पीलग्रीम अस्पताल के चिकित्सकों के साथ मारपीट करने का मामला दर्ज है।

विभा देवी गया के जिस वार्ड संख्या-5 से पार्षद का चुनाव जीती हैं उसी इलाके के कंडी नवादा मोहल्ले की एक महिला मरीज को गया के पीलग्रीम अस्पताल में दाखिल किया गया था, जिसकी दूसरे दिन मौत हो गई। इसके बाद विभा देवी अस्पताल पहुंची और सरकारी चिकित्सकों पर मरीज के इलाज में लापरवाही का आरोप लगाया और अपने समर्थकों के साथ चिकित्सकों के साथ मारपीट की थी।

इधर पटना के एक होटल में दो नाबालिग लड़कियों के साथ रंगरेलियां मनाते पकड़े गए उप-महापौर मोहन श्रीवास्तव का तो निकट भविष्य में क्या लंबे समय तक जेल से निकलने की संभावना नहीं है क्योंकि उनपर पीड़ित लड़कियों के अपहरण और गैंगरेप के साथ कई संगीन धाराओं में मुकदमा दर्ज हुआ है।

इस तरह दोनों ‘पौर’ पर आयी आफत के बाद गया नगर निगम ‘पौर’ विहीन हो गया।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Related Post

Loading...