….और एक-एक पत्रकार को यूं नंगा कर डाले कृष्ण बिहारी मिश्र !

Share Button

रांची (मुकेश भारतीय)। वरिष्ठ पत्रकार कृष्ण बिहारी मिश्र ने अपने फेसबुक टाइम लाइन पर रांची के पत्रकारों की नंगई को लेकर जो पोस्ट की है, वाकई वह पत्रकार जगत को शर्मसार कर देने वाली है। हो सकता है कि इनमें सब लोग शामिल न हों, लेकिन इस नग्नता की जबाबदेही से मुक्त भी नहीं हो सकते। क्योंकि वे यदि इस उत्पाती भीड़ में शरीक न हों तो उसका विरोध या कड़ी टिप्पणी अवश्य करनी चाहिये। किसी भी समाचार पत्र या न्यूज चैनलों में इस मीडियाई अराजकता का न छपना या दिखना सबको यूहीं लपेट मारती है।

श्री मिश्र एक सजग और मंझे हुये लेखक-पत्रकार माने जाते हैं। उनकी फेसबुक पोस्ट को लेकर राज़नामा.कॉम द्वारा की गई पड़ताल के बाद तो स्थिति और भी वद्दतर नजर आती है। यहां “ पत्रकार और कुत्ता-हड्डी” वाली कहावत उल्टी पड़ जाती है।  एक ओर जहां पत्रकारों की भीड़ ने अपना खुला नंगापन दिखया, वहीं झारखंड सरकार के सूचना जनसंपर्क विभाग के जिम्मेवार लोगों ने पत्रकारों का मजाक बनाते हुये खूब गड़बड़झाला भी किया। इस गड़बड़झाला की जद में विभागीय कार्यक्रम प्रभारी संजय कुमार झा की अहम भूमिका उभरकर सामने आई है। लेकिन जब मीडिया बिरादरी का सिक्का ही खोटा हो तो सरकारी खजानों के दीमकों की क्या बात करना। पत्रकारों ने तो पांच-दस बैग लूट कर ही अपना बेड़ा गर्क कर लिया लेकिन,  इस मानमर्दन की आड़ मे विभागीय लोग बहुत कुछ डकार गये। जैसा कि हमेशा होता आया है।

वेशक कृष्ण बिहारी मिश्र जी ने सोशल साइट के जरिये सबको आयना दिखाया है। उन्होंने प्रमाण के तौर पर इमेज-वीडीयो फाइल भी अटैच की है। इस बात से इन्कार नहीं क्या जा सकता है कि सत्ता की थूकचटई करना रांची की मीडिया में एक बड़ा शगल बना गया है। इसमें कोई धूलफांक और झोलाछाप पत्रकार हीं शामिल नहीं हैं बल्कि, प्रायः खुद को बड़े-बड़े तीसमार खां समझने वाले संपादक-पत्रकार भी शामिल हैं।

कृष्ण बिहारी मिश्र जी ने अपने फेसबुक वाल पर जो कुछ लिखा है, उन्हें भारी तादात में पंसद किया जा रहा है और ढेर सारे रोचक कंमेंट भी मिल रहे हैं। प्रस्तुत है उस पोस्ट के हुबहु अंश…… 

और एक-एक कर सभी नंगे हो गये…

ये हैं रांची के पत्रकार,

देखिये क्या कर रहे है?

ये एक निकृष्ट बैग के लिए हाय तौबा मचा रहे हैं…

मामूली बैग, जिसकी बाजार में कीमत सौ-दो सौ से ज्यादा कुछ भी नहीं…

फिर भी मुफ्त के बैग में आनन्द की प्राप्ति होती है, इसलिए वे एक मामूली बैग को लेने के लिए लूच्चे व भिखारी की तरह हरकते कर रहे हैं…

जिन्हें बैग इन पत्रकारों को देना है, वे आराम से दूर से यह दृश्य देखकर, मुस्कुरा रहे है…

शायद वे इसलिए मुस्कुरा रहे है, कि जो काम कोई नहीं कर सका, इन्होंने कर दिया…

यानी उधर मुख्यमंत्री रघुवर दास ने 23 जनवरी को विधानसभा में झारखण्ड का बजट पेश किया और इधर आइपीआरडी ने पूरे विधानसभा में रांची के सभी बड़े प्रतिष्ठानों के अखबारों और चैनलों के पत्रकारों को लूच्चा व भिखारी करार दिया…

ये किसने किया, हम आपको बताते है, ये सारा श्रेय जाता है, आइपीआरडी के निदेशक राजीव लोचन बख्शी को, जिसकी खुराफाती दिमाग ने ये सारा कार्य कर दिया…

मैं पूछता हूं कि जब दीवाली में सारे पत्रकारों को मिठाई का डिब्बा, ये आइपीआरडी आराम से उनके घर तक पहुंचाता है, तो क्या यह एक मामूली बैग, जिसके लिए विधानसभा में पत्रकार भिखारियो की तरह हरकतें कर रहे हैं, उनके घर तक नहीं पहुंचा सकता था…

मेरा उत्तर है, पहुंचा सकता था, पर इसने ऐसा नहीं किया,

क्योंकि आइपीआरडी के निदेशक राजीव लोचन बख्शी को, तो विधानसभा में पत्रकारों को नंगा करना था, उसने कर दिया और पत्रकार नंगे हो गये, जरा देखिये नीचे में एक फोटो, जिसमें आइपीआरडी का निदेशक राजीव लोचन बख्शी, कैसे पत्रकारों के इस बेशर्मी वाली हरकतों को देखकर मुस्कुरा रहा है…

कमाल इस बात का भी, सब की इज्जत की मिट्टी पलीद करनेवाले ये अखबार और चैनलवाले अपनी इस गंदी हरकतों को न तो छापे और न ही दिखाया, शायद उन्हें लगा कि छापेंगे और दिखायेंगे तो उनकी इज्जत चली जायेगी, अरे तुम्हारी इज्जत है कहां कि जायेगी, जनता तो तुम्हें खूब अच्छी तरह जानती है कि तुम क्या हो?

163Akhilesh K Singh, Ratan Tirkey and 161 others  24 shares

Comments

Sunny Sharad बाढ़ राहत सामग्री बंट रहा है।

Like · Reply · 2 · Yesterday at 10:28am

Nidhi Rashmi Free ki chiz sabko pyari hoti hai.. chahe useless item hi kyu na ho..
Mr. Sunny ne bilkul sahi kaha ” baadh rahat samagri”

Like · Reply · 1 · Yesterday at 10:32am

Om Prakash Pathak शर्मनाक, हद हो गई

Like · Reply · 1 · Yesterday at 10:34am

Ravi Prakash Sinha इनकी ये तस्वीर और खबर कौन छापेगा! थोड़ी सी होने पर ये दूसरों को नंगा कर देते हैं और खुद….

Like · Reply · 1 · Yesterday at 10:37am

Akhilesh K Singh रांची के प्रेस्या ।

Like · Reply · 2 · Yesterday at 10:48am

Brahmanand Thakur सब लूटता है त न आपको ई बेचारे पत्रकारे पर नजर लग गयी ?अरे भाई माले मुफ्त दिले बेरहम।

Like · Reply · 1 · Yesterday at 10:51am

Rishi Nath शर्म शर्म शर्म। और कुछ नही

Like · Reply · 1 · Yesterday at 10:52am

Lokesh Vaidya Jis din budget aata hai us din na jane kaha se patrakaro ki bheer aa jati hai. Electronic wale to apnay driver aur technical staff ko v le aatay hai. Jac me jab matric inter ka result nikal raha tha . Jis folder me result aur uski cd thi wo mujhay denay ke liye p r o la raha tha. Tabhi ek electronic media ka driver p r o ke hath se le Liya. Kafi Bolney ke bad v nahi loutaya.

Like · Reply · 2 · Yesterday at 11:02am

Hemant Mishra माघ मास का गंगा(bag) स्नान !

Like · Reply · 1 · Yesterday at 11:05am · Edited

Satya Prakash Eakdam sahi likhe hain baba…roti fenk do to… Aajkal uske lie bhi Janwar nahi eaisa karte.

Like · Reply · 2 · Yesterday at 11:06am

Niraj Nayan Choudhary इसे देखकर अपने को पत्रकार कहने पर भी शर्म महसूस होती है

Like · Reply · 2 · Yesterday at 11:07am

Rajeev Ranjan Vimal बहुत शर्मनाक! ये हाल लगभग सभी जगहों पर है।

Like · Reply · 3 · Yesterday at 11:10am

Lokesh Vaidya Sabhi jagah yahi hal hai

Like · Reply · 2 · Yesterday at 11:11am

Sulakshana Tiwary Dhumil hoti patrakaro ki chhavi…….

Like · Reply · 2 · Yesterday at 11:13am

रोहित सिंह आप महान है सर जी आपने पुरे नंगा कर दिए जो बचा है में व्हाट्सएप्प के द्वारा कॉपी कर दे रहा हूँ ..

Like · Reply · 1 · Yesterday at 11:15am

RaviShankar Pandey कृष्ण बिहारी जी RTI के तहत जनसम्पर्क विभाग से आप यह जानकारी प्राप्त कीजिए कि राज्य में पत्रकारों की आबादी कितनी है तथा उनमें कितने फर्जी पत्रकार हैं?
2-प्रतिदिन विधान -सभा का अनावश्यक चक्कर लगाने वाले पत्रकार कितने हैं तथा माननीय माननीय मंत्रीजी का नवनीत लेपन करने वाले कितने?

Like · Reply · 3 · Yesterday at 11:19am

Krishna Sharma भुखों का कोलाहल

Like · Reply · 1 · Yesterday at 11:24am

Shyama Charan Mishra भुक्खडों की टोली

Like · Reply · 2 · Yesterday at 11:45am

Tarun Kumar Jaiswal Sab sima paar kar diya inlog ne

Like · Reply · 2 · Yesterday at 11:30am

Prabhakarnath Tiwari कृष्ण बिहारी भैया आप 100% सहि बोले

Like · Reply · 1 · Yesterday at 11:41am

Shyama Charan Mishra यही पहचान रह गयी है पत्रकारों की, जो दूसरों को नसीहत देते थकते नहीं । पहले सच बोलने के लिये शहीद होते थे आज सच्चाई छिपाने के लिये मशहूर हो चले हैं

Like · Reply · 5 · Yesterday at 11:43am

Upendra Kumar पत्रकारिता कलंकित हुई

Like · Reply · 2 · Yesterday at 11:43am

Nikhil K D Verma

Like · Reply · 3 · Yesterday at 11:46am

Shaji Joseph What a show!!! Shresht Bharat ki vishesh sena!!! What a fall….my own fraternity!!!

Like · Reply · 3 · Yesterday at 11:57am

Dhiraj Kumar Aapne garda garda kar diya

Like · Reply · 1 · Yesterday at 11:58am

Prabhakarnath Tiwari यहि कारण है कि पत्रकार चन्द रुपयो क लालच मे समाज से जुडे कई मुद्दो को नहि छापते है

Like · Reply · 3 · Yesterday at 12:05pm

Amit Jha साख बचाने की चुनौती खडी है हर पेशे में

Like · Reply · 1 · Yesterday at 12:07pm

Mahesh Kumar Yadav kitna comment karu sir,sach dikh raha hey.

Like · Reply · 2 · Yesterday at 12:31pm

Mrityunjay Prasad एक बार एक पत्रकार ने तो बजट के दिन एक विधायक को मिला ब्रीफकेस ही लेकर चल दिया और विधायक जी देखते रह गए।

Like · Reply · 6 · Yesterday at 12:52pm

Ratan Tirkey मैनें भी अपने 18 सालीय पत्रकारिता में कम से कम ऐसी नौबत नहीं देखी. बंटवाने वाला नया prd director कितना बुद्धिबाज और उसमें कितनी प्रशाषनिक क्षमता है..समझ लें. सुना है Chief Sect की पैरवी से आया है .

Like · Reply · 3 · Yesterday at 1:02pm

Gautam Deb धो डाले सर जी।पूरी दुनिया मे ज्यादातर पत्रकारो का कमोबेश यही स्तिथि है।यहाँ तक की ट्रम्प ने भी इनके ऊपर टिपण्णी की है।

Like · Reply · 3 · Yesterday at 1:07pm

Vikram Kumar आइना ने इतनी गंदगी देखी
कि मजबूरन खुद मैला हो चला ………….दुखद सत्य

Like · Reply · 2 · Yesterday at 1:14pm

Alok Mishra Shukra karo ki sirf baig tha agar daru hoti to aapas mein lar marte

Like · Reply · 5 · Yesterday at 1:21pm

Prashant Prakash सच्चाई को देश के सामने लाने के लिए आपको साधुवाद ……………

Like · Reply · 3 · Yesterday at 1:28pm

Kishor Kumar Singh In Dalal aur Kaminaon ka Sampadak aur Malik bhi kahin lootne men laga hoga….in logon ki Saddak par talibani tarike ki pitai honi chahiye…..

Like · Reply · Yesterday at 1:36pm

Rajeev Mittal बस.. यही नंगई देखी है पत्रकारों की…!!!!

Like · Reply · 2 · Yesterday at 2:10pm

Singh Kumar ये लोग अपने आपको बहुत बड़ा बुद्धिजीवि समझते है और दुसरे को अपने सामने निस्कृष्ट समझते है . जो दिख रहा है दर असल यही इनकी औकात है . ऐसे तो गली में ……. करते हैं . शर्मनाक .

Like · Reply · 1 · Yesterday at 2:55pm

Lokesh Vaidya Singh je kuch logo ke karan patrakaro ki aukat nahi napna chaheye.

Like · Reply · 1 · Yesterday at 3:02pm

Shahnawaz Akhtar पहचान पहचान कर सब की मान्यता रद्द की जानी चाहिए…इन में से कई चेहरे ये तै किया करते हैं कि किसको मान्यता मिलनी चाहिए किसको नहीं…दूसरों की औकात नापने वाले…देख अपनी औकात…

Unlike · Reply · 8 · Yesterday at 3:16pm

Ajay Lal भाई मैंने भी comment दिया है । थोडा देखे

Like · Reply · 45 mins

Shalni Priya क्या देगें ये सच्च का साथ , खुले आम लूट मचाते , बीकते जा रहे है ये महान पत्रकार

Like · Reply · 3 · Yesterday at 3:34pm

Kumar Rajeev Professional,shame

Like · Reply · 1 · Yesterday at 4:26pm

Jitendra Kumar कृष्ण बिहारी जी शायद आप जानते होंगे कि पत्रकारो का पहला धर्म है खबर चुराना, खबर के लिए फ़ाइल का पन्ना फाड़ लेना, खबर के लिए कोई भी जातां या तिकड़म करना। मुख्यमंत्री ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में मंच से कहा था क़ि बजट से सम्बंधित सारे कागजात दिए जा रहे है। उसी बैग में pendrive था, जिसमे बजट सॉफ्ट कॉपी में था। अगर पत्रकार बैग नहीं लुटाते तो उसे ड्राईवर, पिउन, सभी ले जाते। पत्रकारों को ही नहीं मिलाता। क्योंकि बैग सीमित था। इसलिए पत्रकारों ने पत्रकार धर्म निभाया। अब व्यवस्था सुधार की बात है तो यह भी होगा। आप तो prd में थे सुधार करने के बदले आपको खुद सुधर जाना परा। सुधार में वक्त लगता है।

Like · Reply · 4 · Yesterday at 5:07pm

Krishna Bihari Mishra Ye cm aur unke numaindon ki jimmewari thi, patrakaron tak samgriyan pahuchane ki, per cm aur unke numaindon ne apna dharm nahi nibhaya. Ye aapko sweekar karna padega. Ulte patrkaro ko nanga karne ka plan banaya aur patrkar fas gaye. Patrkar chahte to cSee More

Like · Reply · Yesterday at 5:20pm · Edited

G.s. Ojha जी कर रहा है RTI डालकर IPRD और विधान सभा से लाभ उठाने वाले सारे पत्रकारों की लिस्ट राशि के साथ , मानदेय भत्ता भुगतान सब फेसबुक वहाट्सप पर डाल दूं । जग जाहिर हो जाय कौन कितने पानी मे हैं ।

Like · Reply · 6 · Yesterday at 5:40pm

Krishna Bihari Mishra Bhaiya shubhasya shighram, bahut jaruri hai. Ye nek kaam aap hi kar sakte hai.

Like · Reply · 2 · Yesterday at 6:11pm

G.s. Ojha मैंने ही CBI की PC मे खुल के पूछा था चारा घोटाला मे किस पत्रकार को कितना मिला है लिस्ट जारी करिये । क्यों कुछ कमीनों के कारण सारी बिरादरी बदनाम हो ।
लगता है इस IPRD का भी कुछ करना पड़ेगा । यहां भी अंधेरगर्दी अब सीमा पार कर रही है ।

Like · Reply · 3 · Yesterday at 6:46pm

Arun Vimohan इनमें पत्रकार कम ,दलाल अधिक हैं । ऐसे ही दलालों ने पत्रकार और पत्रकारिता की गरिमा गिरायी है । मालिकों को भी तो अब ऐसे ही पत्रकार चाहिए !

Like · Reply · 5 · Yesterday at 5:47pm

Arun Vimohan जीतेंद्र कुमारजी , ऐसी घटना पहली नहीं है । इससे पूर्व भी ऐसे नजारा देखने को मिलते रहे हैं , जिससे आप भी अनजान नहीं हैं !

Like · Reply · 2 · Yesterday at 6:07pm

Sumit Kumar In sabhi ko laga ram naam ki loot hai, par ye ram naam nahi bag naam ki loot thi.

Like · Reply · Yesterday at 6:15pm · Edited

Bipin Pandey Y patrakar nahi berojgari dur karne k naukri kar rahe hai guruji…. Adhik apeksha dukhdai hogi….

Like · Reply · 1 · Yesterday at 6:57pm

Vinay Mishra आज शायद आपको समझ आ गया होगा कि जब कोई ओछी हरकत पर उतारू हो जाता है तब भाषा की मर्यादा बनाये रखना कुछ कठिन हो जाता है। वैसे कभी आपने भाषायी मर्यादा की नसीहत दी थी।

Like · Reply · 1 · Yesterday at 7:11pm

Ravindra Lal लोग ये बातें सुनते -जानते थे,,,,मगर आपने लोगो को दिखा दिया ,,,,,,प्रत्यछम, की प्रमानम,,,,,,,हमाम में सब नंगे है,,,,,

Like · Reply · 2 · Yesterday at 7:48pm

Akhilesh Kumar आज का सच यही है

Like · Reply · 1 · Yesterday at 8:41pm

Yashwant Kumar Bablujee Ye nazara kaphi hai ye batane ke liye ki ..patrakaro ki durdasha..aur bhee girnewali hai…kuchh to socho?

Like · Reply · 1 · Yesterday at 8:41pm

Ved Prakash Bahut log to saaf dikh rhe.. kuch to ye b kahte sunai de rhe ki mobile camera band kro…😂

Like · Reply · 1 · Yesterday at 9:48pm

Narendra Kumar शर्मनाक घटना जितनी निंदा की जाए कम है social मीडिया के जरिए दुनिया भर में झारखंड के पत्रकार की फजीहत हुई है स्वच्छ चर्चा छेड़ने के लिए मिश्रा जी को धन्यवाद |

Like · Reply · 1 · 23 hrs · Edited

Dilip Kumar Pandey ये सिक्के का केवल एक पहलु है….

Like · Reply · 2 · 23 hrs

Murli Manohar Mishra बेहद शर्मनाक

Like · Reply · 1 · 23 hrs

Rajeev Ranjan सब के सब काबिल बन रहे है,बड़का बड़का कमेंट कर रहे है,किसी को ये भी पता है कि जो लोग जिस बैग के लिए खड़े है,उस बैग में क्या है,,,,उस बैग में बजट का पूरा कॉपी डाला हुआ था,अगर पत्रकार उसे लेंगे नहीं तो खबर कैसे बनाएंगे,अगर पोस्ट करने वाले और पड़ने वाले रियल में पत्रकार है तो उन्हें पता होगा की एक अखबार का आदमी को अगर डिटेल नहीं मिलेगा तो वो खबर कैसे बनायेगा ।।।और अपने बिरादरी की हंसी उड़ाकर आप बहुत महान नहीं बन जायेंगे .।।।।

Like · Reply · 2 · 23 hrs

Ajay Prasad मिश्रा जी आप बेवाक जरुर हैं।और आपने सही कहा कि सचिव बख्शी ने जो करना था ,वो बजट का पेपर बैग में डालकर कर दिया।और अगर राजीव रंजन की बात सही है,तो स्थिति थोड़ी भिन्न हो जाती है।आखिर पत्रकार क्या करे ,आप भी जानते हैं कि अब कि पत्रकारिता क्या है ,पत्रकारिता तो अब खास कर बड़े हाऊस में नौकरी बन गया है‌।और अगर नौकरी करनी है तो बजट का पेपर चाहिए ही चाहिए, चाहे वो बैग में रखकर मिले,या ऐसे ही।

Like · Reply · 2 hrs

Krishna Bihari Mishra Budget ka paper to iprd ki site per v upalabdh tha, waha se inlogo ne kyo nahi le liya, yaha ab log apni galti chhupane k liye bayan darz kara rahe hai, sachchai wahi hai jo hamne likha hai.

Like · Reply · 1 · 2 hrs · Edited

Ved Prakash ये बहस जायज है। लेकिन मैं इस सत्य को अस्वीकार करने वाले लोगों की बात से असहमत हूं। बात यहां वीडियो में लूट मचा रहे और ब्यूरोक्रेट्स के आगे पत्रकारिता को झुका रहे पत्रकारों की हो रही है। दरअसल लूटने की आदत है हमें। और इस हालत के जिम्मेदार हम सब ही हैं। वरना अधिकारियों और नेताओं की इतनी …. तो नहीं कि वो लोकतंत्र के चौथे स्तंभ को इस हालत में पहुंचने पर मजबूर करें। आप लूटेंगे, लोग लुटवायेंगे.. आप चाटेंगे, लोग चटवायेंगे.. सशक्त बनिये कि लोग आप तक पहुंचे, न कि आप उनके तलवे चाटें। जिम्मेदार हम सब हैं। इस सच को स्वीकारें।

Unlike · Reply · 1 · 55 mins

Ajay Lal Kb मिश्रा जी । आपने सभी शब्द का प्रयोग कैसे किया। हिम्मत है तो फ़ोटो देककर सभी का नाम भी लिखीये। थोड़ी हिम्मत और दिखाईये ।

Like · Reply · 1 · 52 mins

Ajay Lal फ़ोटो पहचानने में problem हो तो मुझे फ़ोन कर लीजियेगा

Like · Reply · 1 · 48 mins

Ajay Lal बजट की पूरी script sarkar के वेबसाइट पर मौजूद थी । लिहाजा ये हमारे भाइयो का बैग नाच था ।

Like · Reply · 1 · 34 mins

Ajay Lal बजट की पूरी script sarkar के वेबसाइट पर मौजूद थी । लिहाजा ये हमारे भाइयो का बैग नाच था ।

Like · Reply · 29 mins

Jaykisan Giri 😷

Like · Reply · 9 mins

H Kumar Jha Jai ho bare vaiya.

Like · Reply · 2 mins

 

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...