Share Button
Read Time:7 Second

औरत जो पत्नी और माँ है………. पुरूष जो पति और पिता है। दोनों में कितनी असमानताएँ हैं, जैसे जमीन और आसमान…………..”

लेखिकाः रीता विश्वकर्मा, रेनबोन्यूज वेब पोर्टल के संपादक हैं।

पुरूष- निकम्मा / निठल्ला / कामचोर…… औरत- कर्मठ गृहणी……… जिस्म के टुकड़ों को रक्त पिलाकर पाला- बड़ा किया। पति का सहयोग मात्र पत्नी को जननी बनाने तक। समय बीतने लगा- बच्चे बड़े होने लगे। पति का निठल्लापन अपने चरम पर। इस परिस्थिति में……….।

बच्चों की जरूरतों को पूरा करने के लिए सारे यत्न कर डाले। तथाकथित सभ्य समाज के झूठे वायदों / आश्वासनों के परिणाम स्वरूप निराश माँ ने अपने बच्चों को पालने के लिए कमर कस लिया, वह जिस्म बेंचने लगी- अब वह उस कमाई का सदुपयोग अपने बच्चो के लिए करती है।

बच्चे अबोध- मासूम- उन्हें क्या मालूम कि माँ के इस कर्म में लिप्त होने से उसे पतिता कहने लगे हैं लोग। तथाकथित सभ्य/सुसुप्त समाज में प्रतिष्ठा का आगमन हो चुका है। अड़ोस-पड़ोस के लोगों में खुसुर-फुसुर……..

लेकिन औरत जो माँ है, उसने अपने कानों में रूई डाल रखा है। वह- वही सब कर रही है जिसके करने से उसका घर-परिवार संचालित हो सके।

वह जिस्म बेचने वाली क्यों बनी-?  इसे जानने के लिए समाज में प्रतिष्ठा के ठेकेदारों के पास न तो समय है और न ही समझ। किसी के बारे में उल्टा-सीधा (नकारात्मक) कहने में कुछ नहीं लगता।

वह भी एक औरत को लाँछित करने के लिए- बस चारित्रिक दोष मढ़ना ही काफी है। दोष मढ़ने वालों के पास इसके अलावा कोई अन्य कार्य भी तो नहीं। समाज को भड़काने वालों की बहुलता भी है।

औरत जो एक माँ है- अपनी कोख में रखकर रक्त पिलाकर जिन भ्रूणों को संसार दिखाया अब उन्हीं की जरूरतों को पूरा करने के लिए वह इस तथाकथित प्रतिष्ठित समाज के उलाहनों / तानों से बेखबर अपने जिगर के टुकड़ों को पाल-पोष रही है। उनकी जरूरतें पूरा कर रही है। क्या बुरा कर रही है- है कोई उत्तर।

क्या पूँछू इस पुरूष प्रधान समाज के उस निठल्ले बाप से जिसने मासूमों की माँ और एक औरत जो उसकी अपनी ही धर्मपत्नी है को जिस्म बेंचने को विवश कर दिया। हे- औरत तू एक माँ के रूप में अवश्य ही महान है।

हे निठल्ले बाप, तुम इस पुरूष प्रधान एवं तथा कथित प्रतिष्ठित समाज में कोढ़ समान है।

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

क्या फर्जी है बिहार विधान सभा की प्रेस सलाहकार समिति!
वही सफलता पाता है
मीसा भारती को महंगा पड़ा हार्वर्ड का 'फेक लेक्चर' बनना
चतरा पत्रकार हत्याकांड का मुख्य आरोपी तमिलनाडु में धराया
गूगल कंपनी में करीब 200 बकरियां नौकरी, वेतन सहित मिलती हैं अन्य सुविधाएं
नोटबंदी से जन्मा देश में अपूर्व भ्रष्टाचार
संजय गुप्ता को फौरन अरेस्ट करने की मांग करनी चाहिए  :यशवंत सिंह
शॉटगन का विजयवर्गीय पर पलटवार-  'हाथी चले बिहार.....भौंके हजार'
लालू के दावत-ए-इफ्तार में रुबरु हुये नीतीश-मांझी
बिहार के नतीजों पर वर्ल्ड मीडिया ने लिखा- अपनी क्षमता खो चुके हैं पीएम मोदी
दो पैसे की हाड़ी गयी, कुत्ते की जात पहचानी गयी
52हजार करोड़ का किसान कर्ज माफी घोटाला
समाजिक बदलाव के लिये जरुरी है विचार परिवर्तन :नीतीश कुमार
खुलासे के साथ भूमिगत हुआ ‘केसरी गैंग’ का रिंग मास्टर
मैं कलम का सिपाही हूं, मेरी प्यारी कलम आज उनकी जय बोल
अश्विनी गुप्ता अपहरण में कुख्यात पूर्व सांसद शहाबुद्दीन को मिले थे ढाई करोड़ रुपये
एसएसपी ने बाहूबली को दी अखबार पर केस करने की सलाह !
13 अक्टूबर को रजत जयंती समारोह मनाएगा पटना दूरदर्शन केन्द्र
RSS में वर्ष 2015-16 के लिए नए दायित्व की घोषणा
गुप-चुप तरीके से हो रही है राज्य सभा टीवी में भर्तियां !
'इंडियाज़ डॉटर' एक ग्लोबल समस्या के प्रति जागरूकता अभियानः बीबीसी
कुख्यात शाहबुद्दीन को लेकर लालू- नितीश के खिलाफ प्रदर्शन!
बिहार चुनाव के एग्जिट पोल के नतीजे गलत साबित होने पर NDTV के चेयरमैन ने मांगी माफी
पत्रकार प्रशांत कनौजिया के मामले में सुप्रीम कोर्ट की कड़ी फटकार, तुरंत रिहा करे योगी सरकार
सिर्फ प्रेस क्लब भवन कब्जाने के लिये चंद मठाधीश लोग चाहते हैं फर्जी संस्था का अवैध चुनाव !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
mgid.com, 259359, DIRECT, d4c29acad76ce94f
Close
error: Content is protected ! www.raznama.com: मीडिया पर नज़र, सबकी खबर।