औरत: हर रूप में महान……!

Share Button

औरत जो पत्नी और माँ है………. पुरूष जो पति और पिता है। दोनों में कितनी असमानताएँ हैं, जैसे जमीन और आसमान…………..”

लेखिकाः रीता विश्वकर्मा, रेनबोन्यूज वेब पोर्टल के संपादक हैं।

पुरूष- निकम्मा / निठल्ला / कामचोर…… औरत- कर्मठ गृहणी……… जिस्म के टुकड़ों को रक्त पिलाकर पाला- बड़ा किया। पति का सहयोग मात्र पत्नी को जननी बनाने तक। समय बीतने लगा- बच्चे बड़े होने लगे। पति का निठल्लापन अपने चरम पर। इस परिस्थिति में……….।

बच्चों की जरूरतों को पूरा करने के लिए सारे यत्न कर डाले। तथाकथित सभ्य समाज के झूठे वायदों / आश्वासनों के परिणाम स्वरूप निराश माँ ने अपने बच्चों को पालने के लिए कमर कस लिया, वह जिस्म बेंचने लगी- अब वह उस कमाई का सदुपयोग अपने बच्चो के लिए करती है।

बच्चे अबोध- मासूम- उन्हें क्या मालूम कि माँ के इस कर्म में लिप्त होने से उसे पतिता कहने लगे हैं लोग। तथाकथित सभ्य/सुसुप्त समाज में प्रतिष्ठा का आगमन हो चुका है। अड़ोस-पड़ोस के लोगों में खुसुर-फुसुर……..

लेकिन औरत जो माँ है, उसने अपने कानों में रूई डाल रखा है। वह- वही सब कर रही है जिसके करने से उसका घर-परिवार संचालित हो सके।

वह जिस्म बेचने वाली क्यों बनी-?  इसे जानने के लिए समाज में प्रतिष्ठा के ठेकेदारों के पास न तो समय है और न ही समझ। किसी के बारे में उल्टा-सीधा (नकारात्मक) कहने में कुछ नहीं लगता।

वह भी एक औरत को लाँछित करने के लिए- बस चारित्रिक दोष मढ़ना ही काफी है। दोष मढ़ने वालों के पास इसके अलावा कोई अन्य कार्य भी तो नहीं। समाज को भड़काने वालों की बहुलता भी है।

औरत जो एक माँ है- अपनी कोख में रखकर रक्त पिलाकर जिन भ्रूणों को संसार दिखाया अब उन्हीं की जरूरतों को पूरा करने के लिए वह इस तथाकथित प्रतिष्ठित समाज के उलाहनों / तानों से बेखबर अपने जिगर के टुकड़ों को पाल-पोष रही है। उनकी जरूरतें पूरा कर रही है। क्या बुरा कर रही है- है कोई उत्तर।

क्या पूँछू इस पुरूष प्रधान समाज के उस निठल्ले बाप से जिसने मासूमों की माँ और एक औरत जो उसकी अपनी ही धर्मपत्नी है को जिस्म बेंचने को विवश कर दिया। हे- औरत तू एक माँ के रूप में अवश्य ही महान है।

हे निठल्ले बाप, तुम इस पुरूष प्रधान एवं तथा कथित प्रतिष्ठित समाज में कोढ़ समान है।

Share Button

Relate Newss:

राजू अचानक क्यों बन गया जेंटिल मैन?
...तो इसलिये तनाव और मानसिक पीड़ा में थे कशिश के रिपोर्टर संतोष सिंह
राष्ट्रीय-पर्व एवं कवि-सम्मलेनी ठेकेदारी
फैक्स पर निकाल जाता था स्विस बैंक से पैसा
फर्जी फेसबुक प्रोफाइल-पेजों में अव्वल हैं हेमंत सोरेन !
13 अक्टूबर को रजत जयंती समारोह मनाएगा पटना दूरदर्शन केन्द्र
कोई पहले या आखिरी पत्रकार नहीं हैं आशुतोष
SBI बैंक के सुरक्षा गार्ड के वेतन का आधा से उपर पैसा यूं उड़ा रही CISS एजेंसी
आदिवासियों को आदिवासी ही रहने दें रघुवर जी
कायर-अपराधी भी सुसाइड बाद अखबार के विज्ञापन में बन गया आदर्श !  
भ्रष्टाचार में संलिप्त पुलिस महकमे के खिलाफ कार्रवाई क्यों नहीं कर रही रघुबर सरकार
OOGLE MAP के लांच नये फीचर से अब ऑफ़लाइन भी मिलेगी दिशा
जीत से उत्साहित ममता का नारा-'भाग भाजपा भाग'
खुद के संदेश में फंसे झारखंड जर्नलिस्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष
बच्चों की जिंदगी से खिलवाड़ करता एनजीओ, मीड डे मील में मिला मेढक, छात्रों ने किया हंगामा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...