एसपी के ग्रेडिंग में सुशासन बाबू के गृह थाना हरनौत को मिला ग्रेड “D”

Share Button

नालंदा (INR)। कहने को तो बिहार में सुशासन बाबू की सरकार है।उन्ही के गृह जिला नालंदा में थाने की स्थिति संतोषजनक नहीं दिख रही है।इसी वजह से अपराध का ग्राफ जिले में तेजी से बढ़ा है।

नालंदा पुलिस कप्तान कुमार आशीष ने एक अच्छी पहल करते हुए पिछले एक सप्ताह के दौरान सभी थाने में थानेदारो के द्वारा किए गए कार्यों की समीक्षा की है।

इस समीक्षा में सुशासन बाबू के गृह थाना हरनौत तथा कल्याण विगहा थाना फिसड्डी साबित हुआ।एसपी ने इन थाने के थानेदार के द्वारा बेहतर कार्य का प्रदर्शन नही करने पर ग्रेड “डी” से नवाजा है।

नालंदा पुलिस कप्तान ने पिछले एक सप्ताह के दौरान किए गए कार्यों के आधार पर थानों की ग्रेडिग करने का एक सराहनीय पहल की है। जिसके आधार पर जिले के थाने को ग्रेड ए,बी ,सी और डी श्रेणी में रखा है। इन थानों की ग्रेडिग की समीक्षा पटना के आईजी करेंगे। बेहतर प्रदर्शन नही करने वाले थानेदारो पर कार्रवाई भी की जाएगी ।

नालंदा पुलिस कप्तान के द्वारा थानों की जो ग्रेडिंग दी गई है, उनमें ग्रेड ए में दीपनगर, इस्लामपुर तथा सरमेरा को रखा गया है ।जबकि ग्रेड बी में बिहार, सोहसराय, लहेरी, नूरसराय, हिलसा, राजगीर तथा चंडी को रखा गया है।

ग्रेड सी में एकंगरसराय, बिंद तथा पावापुरी ,खुदागंज तथा वही ग्रेड डी में हरनौत ,गिरीयक, कतरीसराय, थरथरी, नगरनौसा, सिलाव, सारे, अस्थावां, रहूई, कल्याण विगहा, सहित अन्य सभी शेष थाने और ओपी शामिल है।

इस ग्रेड में सबसे चौंकाने वाली बात यह है कि जिला मुख्यालय बिहारशरीफ के एक भी थाने ग्रेड ए में स्थान हासिल नही कर सका ।जबकि जिला मुख्यालय के थानों में इंस्पेक्टर रैंक के थानेदार की पदस्थापना की जाती है।

नालंदा के सबसे बड़े थाने की स्थिति को देखकर अंदाजा लगाया जा सकता है कि नालंदा के थाने में पदस्थापित थानाध्यक्ष की कार्यशैली की वजह से ही शायद अपराध पर लगाम नही लग पा रहा है ।

Share Button

Relate Newss:

भस्मासुर बन गये रामकृपाल यादवः लालू प्रसाद
ताला मरांडी को लेकर पार्टी-संघ गंभीर, मुन्ना मरांडी हुआ भूमिगत !
पटना में ही था हैदर अली संग तहसीन
एएनएम की लापरवाही से गई बच्ची की जान, विधायक ने दिया जाँच का आदेश
वाह मुलायम! बिना धृतराष्ट्र बने बेटे को बना दिया सुल्तान
बिहार में भाजपा की लंका जलाने में मोदी-शाह के विभिषण प्रशांत की रही अहम भूमिका
अपनी हक हकूक के लिये 'हिलसा आंचलिक पत्रकार' का गठन
सड़क पर गजराज, समझिये इनके गुस्से
भाजपा के नये मुसीबत बने उपेंद्र कुशवाहा !
रघु’राज एक सचः सुशासन का दंभ और नकारा पुलिस तंत्र
.....और यूं 4 माह बाद जेल से बाहर निकले पत्रकार वीरेंद्र मंडल व उनके पिता
आखिर रघुवर दास महेन्द्र सिंह धौनी से इतने चिढ़ते क्यों है?
पंचायत चुनावः राजनाथ-मोदी के संसदीय क्षेत्र में बीजेपी की करारी हार
सावधान! फर्जी है 'आपका सीएम.कॉम'
केजरीवाल की 'राज' पर कांग्रेस की 'नीति'

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...