एडीएम ने महिला सहायक को फेसबुक-ईमेल से लगातार भेजे अश्लील फोटो, FIR दर्ज

Share Button

क्या किसी एडीएम, खासकर वह जब लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी जैसे अहम पद पर बैठा हो, उसका ई-मेल आईडी कार्यालय में सार्वजनिक रुप से ईस्तेमाल होता है। क्या उससे कोई सोशल एकाउंट बना ले, लगातार मैसेज भेजे और जिम्मेदार पदधारी को भनक न लगे। यह कुछ हजम होने वाली दलील नजर नहीं आ रहा”

राजनामा.कॉम। बिहार के हाजीपुर के एडीएम सह लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी पर महिला कार्यपालक सहायक ने फेसबुक, ईमेल के जरिये अश्लील फोटो व मैसेज भेजने का गंभीर आरोप लगाया है।

उधर, एडीएम ने महिला कर्मचारी के आरोपों को बकवास बताते हुए अपनी सफाई में कहा है कि उनके नाम से फेक फेसबुक एकाउंट क्रिएट कर उन्हें बदनाम करने की कोशिश की जा रही है।

कार्यपालक सहायक ने महिला थाना में तो एडीएम ने नगर थाना में महिला कार्यपालक सहायक पर एफआईआर कराया है। एडीएम ने महिला कर्मचारी पर बदतमीजी करने, गाली देने एवं सरकारी कार्य में बाधा डालने जैसे आरोप लगाए हैं।

इस प्रकरण के सामने आने से प्रशासनिक हलके में खलबली मच गई है। एसपी ने आईटी सेल को जांच की जिम्मेवारी सौंपी है।

एडीएम ने महिला कर्मचारी के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के लिए नगर थाना में लिखित शिकायत दी है। उन्होंने महिला कर्मचारी पर बदतमीजी से पेश आने, गाली देने, हंगामा करने, ऑफिस टाइम में फाइल फेंकने व सरकारी काम में बाधा डालने जैसे आरोप लगाए है।

महिला कार्यपालक सहायक के पद कलेक्ट्रेट के कार्यालय में कार्यरत है। उसने महिला थाना में 08 अगस्त बुधवार को एडीएम के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराया है।

महिला कार्यपालक सहायक का आरोप है कि एडीएम सह हाजीपुर अनुमंडल लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी के फेसबुक एकाउंट, ईमेल से बराबर अश्लील फोटो व गंदा मैसेज भेजा जा रहा है, इससे वह परेशान हो रही है।

वैशाली एसपी मानवजीत सिंह ढ़िल्लो के अनुसार महिला थाना व नगर थाना में दोनों ओर से एफआईआर दर्ज हुआ है। मामले की गंभीरता देखते हुए राज्य पुलिस मुख्यालय पटना की साइबर यूनिट को जांच की जिम्मेवारी सौंपी गई है।

एडीएम जफर आलम ने एसपी डॉ. मानवजीत सिंह ढिल्लो से मिलकर अपना पक्ष रखा है। उन्होंने उन पर लगाए गए तमाम आरोपों को घटिया व बेबुनियाद कहा है। अपनी सफाई में उन्होंने कहा है कि अफसरों का काम मातहतों के जरिये ही होता है।

बकौल एडीएम, उनका ईमेल आईडी ऑफिस में कॉमन है। कई कर्मचारी उसका प्रयोग करते हैं। पासवर्ड भी कई लोगों को मालूम है। हो सकता है कि किसी ने ईमेल आईडी फेक फेसबुक एकाउंट बना लिया हो। उन्हें बदनाम करने की साजिश के तहत ईमेल व फेसबुक से तथाकथित अश्लील फोटो या संदेश भेजा गया हो।

Share Button

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...