एक बेईमान एसडीओ  बना जल संसाधन मंत्री ललन सिंह का आप्त सचिव !

Share Button
Read Time:4 Minute, 9 Second

पटना (विशेष संवाददाता)। नालंदा जिले में  निकम्मे और बेईमान अफसरों की भरमार है। आम जनता का शोषण और दमन  उनका पेशा बन गया है। सीएम नीतिश कुमार खुद को हालांकि पटना जिले के निवासी बताते हैं लेकिन, लोग उनके गृह जिला नालंदा को मानते हैं। इस ख्याल से नालंदा की व्यवस्था में व्याप्त कुशासन और बेईमानी मन-मस्तिष्क को झकझोर जाती है।

lalan_singh_sdo
बिहार सरकार के जलसंसाधन मंत्री एवं सीएम नीतिश कुमार के करीबी जदयू नेता राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह

बहरहाल, उसी व्यावस्था के सिरमौर बने हिलसा अनुमंडल के एसडीओ अजीत कुमार सिंह सीएम नीतिश कुमार के करीबी और कद्दावर मंत्री राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह के आप्त सचिव बनाये गये हैं। इससे साफ प्रतीत होता है कि नालंदा की व्यवस्था में निकम्मों और बेईमान अफसरों को उच्च सत्ता संरक्षण प्राप्त है।

हिलसा में एसडीओ रहने के दौरान अजीत कुमार सिंह सिर्फ दलालों की सुनते रहे। भूमि विवाद के मामलों में जमकर अपना निकम्मापन और बेईमानी दिखाई। एक विविध मुकदमा संख्या-25 एमपी / 2015 के मामले में तो हद कर दी। पुलिस की मदद से धारा-144 के दौरान एक विवादित भूमि पर काम होता रहा। इसकी शिकायत जब उनकी भरी अदालत में की गई तो उन्होंने पुलिस की रिपोर्ट के मुताबिक कोई कार्य न होने का हवाला दिया। जब शिकायतकर्ता ने उनके समक्ष कोर्ट की कार्रवाई के दौरान भी धारा-144 के उलंघन होने का दावा किया तो उन्होंने अपनी ईमानदारी को फंसता देख किसी दूसरे अंचलाधिकारी से कोर्ट की कार्रवाई के दौरान ही विवादित स्थल का मुआयना कर रिपोर्ट मंगवाई। अंचलाधिकारी के ने अपनी जांच में धारा-144 का उलंघन होते सप्रमाण रिपोर्ट दी और दोषियों के खिलाफ धारा-188 के तहत तत्काल कार्रवाई करने की अनुसंशा की।

हिलसा के एसडीओ पद से जल समसाधन मंत्री के प्रायवेट सेक्रेटरी बने अफसर अजीत कुमार सिंह
हिलसा के एसडीओ पद से जल समसाधन मंत्री के प्रायवेट सेक्रेटरी बने अफसर अजीत कुमार सिंह

लेकिन, एडीओ के मन में पहले से ही बेईमानी भरी पड़ी थी। इसलिये उन्होंने खुद के द्वारा निर्देशित एक दंडाधिकारी की रिपोर्ट के बावजूद कोई कार्रवाई नहीं की और फिर उसके बाद तारीख पर तारीख देते हुये मामले को टरकाते रहे। इस दौरान असमाजिक तत्वों ने समूचे विवादित भूमि को अपने कब्जे में लेकर पक्का निर्माण कर लिया। उसके बाद एसडीओ ने पुलिस के पूर्व झूठी रिपोर्ट के आधार पर ही धारा-188 निरस्त कर अपनी बेईमानी का परिचय दे डाला। ऐसे कईयों उदाहरण हैं, जो एसडीओ अजीत कुमार सिंह की बेईमानी को यूं ही बेनकाब कर जाती है।

सबाल उठता है कि ऐसे निकम्मे व बेईमान अफसरों को खुला संरक्षण और बढ़ावा देकर सीएम नीतिश कुमार की सरकार के  कद्दावर मंत्री ललन सिंह खुद सुशासन को किस तरह से परिभाषित की है।144-chandi-policechandi-co-report

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

भगवान बिरसा जैविक उद्दान में लूट का आलमः खा गए मछली , डकार लिए घर
क्या पोर्न इंडस्ट्री से आई हैं कैटरीना कैफ ?
मोदी मंत्रिमंडलः भाजपा को मलाई, औरों को मिली छाछ
प्रमंडलीय आयुक्त आनंद किशोर का राजगीर मलमास मेला सैरात भूमि को लेकर ऐतिहासिक आदेश
जगन्नाथपुर सीटः 'पंचमंगल' के फेर में फंसी 'मधु' की 'गीता' !
नालंदा एसपी ने 'ट्रक वसूली' का ठीकरा हवलदार के सिर फोड़ा !
मोदी जी का 'लूट लो झारखण्ड' ऑफर
आरएसएस,जनसंघ और भाजपा को खून-पसीने से सींचा, आज सुध लेने वाला कोई नहीं !
मुंगेर: सड़कों पर क्यों जलाई जा रही है दैनिक प्रभात खबर ?
प्रेस क्लब की सदस्यता में धांधली के बीच विजय पाठक को लेकर उभरे तत्थ
मदन तिवारी ने यशवंत सिंह से कहाः .....तो जेल खुद जायेगें हरिबंश
पहले 'जय जवान,जय किसान' और अब 'मर जवान,मर किसान'
पुलिस की सांठ-गांठ से कोसुम्भा NTPC गोदाम में हो रही है करोड़ो की चोरी !
आभासी दौर और नारी अस्मिता की त्रासदी
कोबरा पोस्ट स्टिंग से खुद की लाज बचाने में जुटे नामचीन मीडिया हाउस
संदर्भ पीपरा चौड़ा कांडः बाहरी और भीतरी के आगोश में झारखंड
खुद अव्वल दर्जे के विवादित छवि के हैं राजगीर के ये कथित जनर्लिस्ट !
गया के कोठी थाना प्रभारी की गोली मारकर हत्या
6 जुलाई खत्म, राजगीर मलमास मेला सैरात की अतिक्रमण भूमि पर चलेगा बुल्डोजर
पत्रकार सुरक्षा कानून एवं आवास योजना की आवाज लोकसभा में उठायेंगे गिलुवा
नोटबंदी को लेकर नीतिश से आगे निकली ममता
यह रही मोदी सरकार की वेबसाइट विज्ञापन नीति
झारखंड में पत्रकार सुरक्षा कानून लागू हेतु सीएम से बात करेंगी शिक्षा मंत्री
साप्ता.चौथी दुनिया के निशाने पर इंडियन एक्सप्रेस के संपादक
विधायक भानु प्रताप शाही फिर गए जेल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...