एक टीम, दो प्रकाशन, तीन अखबार

Share Button

सरकारी विज्ञापन लूटने का हथियारः

झारखंड में सरकारी विज्ञापन लूटने लिए तरह-तरह के हथकंडे अपनाये जा रहे हैं. इस दिशा में दो प्रकाशनों ने गज़ब का रैकेट बना रखा है. एक प्रकाशन जमशेदपुर का है जिसका नाम है सम्प्रति प्रकाशन प्राइवेट लिमिटेड है. इसके पास अपना प्रेस है और एक छोटी सी सम्पादकीय टीम भी है. यह वर्षों से चमकता आईना नामक दैनिक अखबार का प्रकाशन कर रहा है. यह अखबार पाठकों तक नहीं पहुँचता. सिर्फ विज्ञापन दाताओं और सरकारी अधिकारियों के बीच वितरित होता है. इसका डीएवीपी, आईपीआरडी है. पब्लिक सेक्टर और प्राइवेट सेक्टर के कई उपक्रमों में सूचीबद्ध है. प्रसार संख्या नगण्य होने के बावजूद पर्याप्त सरकारी विज्ञापन जुटा लेता है. इसके एक डाइरेक्टर हैं ब्रजभूषण सिंह. वे रांची के मां करुणामयी प्रकाशन प्राइवेट लिमिटेड के साप्ताहिक और दैनिक अखबारों के संपादक हैं. इस प्रकाशन के जरिये 7  डेज वीकली अखबार 2005 से प्रकाशित हो रहा है.

 इसके मालिक डा. विकाश हाजरा हैं जो पेशे से डाक्टर हैं और धनबाद में एक अस्पताल चलाते हैं. मीडिया की उन्हें विशेष जानकारी नहीं है. साप्ताहिक अखबार की शुरूआत रवींद्र कुमार सिंह और अनुराग कश्यप ने की थी. उनहोंने एक सक्षम सम्पादकीय टीम बने थी. अखबार भी लोकप्रिय हो गया था. वे ब्रजभूषण सिंह के करीबी रिश्तेदार भी हैं लेकिन ब्रजभूषण सिंह एक शातिर पत्रकार के रूप में चर्चित रहे हैं. ब्रजभूषण सिंह का प्रारंभिक जीवन धनबाद में बीता है.

इसलिए उन्हें पता था कि डा. हाजरा काफी धनी व्यक्ति हैं उन्हें मीडिया का चस्का लग चुका है. बस ब्रजभूषण सिंह ने अपना जाल बिछाना शुरू किया. अखबार के प्रधान और कार्यकारी संपादक के विरुद्ध भ्रम फैलाना शुरू किया. इसमें धनबाद के उनके कुछ पुराने मित्रों ने सहयोग किया. डा. हाजरा और संपादक मंडल के बीच दूरी बढती गयी और एक दिन रांची की पूरी टीम ने इस्तीफ़ा दे दिया. ब्रजभूषण सिंह संपादक बन गए. उन्होंने अपने एक पसंदीदा रिपोर्टर को एक्जक्यूटिव एडिटर के रूप में स्थापित करने की कोशिश की लेकिन संभल नहीं पाया. अखबार बंदी के कगार पर पहुँच गया. इसी बीच देवेन्द्र गौतम नामक एक वरिष्ठ पत्रकार को डा. हाजरा ने अखबार निकलने की जिम्मेवारी दी. अखबार निकलने लगा लेकिन वे ब्रजभूषण सिंह के डमी बनने के लिए तैयार नहीं हुए तो उनके विरुद्ध भी षड्यंत्र शुरू कर दिया. अखबार का मुद्रण चमकता आईना के प्रेस से करवाने लगे. आजिज़ आकर देवेन्द्र गौतम ने भी अखबार छोड़ दिया. इस बीच धनबाद में एक टीम बनी लेकिन ब्रजभूषण सिंह ने उस टीम को भी तोड़ दिया. उसमें से सिर्फ एक विष्णु शंकर उपाध्याय को रहने दिया जो उनकी हाँ में हाँ मिलाने और चाटुकारिता के लिए तैयार थे.

माल महाराज का मिर्जा खेलें होरीः 

 ब्रजभूषण सिंह ने डा. हाजरा को समझाया कि जमशेदपुर में आईना की टीम है ही. और लोगों को रखने की क्या ज़रुरत है. इस बीच डा. हाजरा ने एक रिपोर्टर के कहने पर इलेक्ट्रोनिक मीडिया में करोड़ों रूपये झोंक दिए. वह प्रोजेक्ट भी टाएँ-टाएँ फीस हो गया. ब्रजभूषण ने इसमें कोई हस्तक्षेप नहीं किया. प्रोजेक्ट फेल होने के बाद ब्रजभूषण ने डा हाजरा को दैनिक अखबार निकालने की सलाह दी.वे चमकता आईना को ही डाक्टर के खर्च पर धनबाद से निकालना चाहते थे लेकिन डाक्टर हाजरा तैयार नहीं हुए तो आवाज़ 7  डेज़ के नाम से नया टाइटल अप्रोवल कराया. इसके सम्पादक भी ब्रजभूषण बने. ब्रजभूषण ने इसे जमशेदपुर के अपने प्रेस में छापना शुरू किया. इसका डीएवीपी करा लिया और सरकारी विज्ञापन की सेटिंग कर ली. अब इसके आईपीआरडी के प्रयास में लगे हैं. यह अखबार बाज़ार में नहीं जाता लेकिन विज्ञापन का खेल बखूबी कर लेता है. ब्रजभूषण सिंह आईना के पृष्ठों को पेस्ट कर 7  डेज का साप्ताहिक और दैनिक संस्करण निकाल रहे हैं. मुद्रण खर्च के नाम पर लाखों रूपये तो बटोर ही रहे हैं संपादक पद के आवाज में भी डा. हाजरा से प्रतिमाह 50  हज़ार रूपए प्राप्त कर रहे हैं. बताया जा रहा कि जल्द ही डा. हाजरा के इस ड्रीम प्रोजेक्ट को ब्रजभूषण हाइजैक करने की तैयारी में हैं. डा.हाजरा का पैसा और मज़े ब्रजभूषण के.

 

Share Button

Relate Newss:

अचानक मुनाफा कमाने लगे दैनिक हिन्दुस्तान और जागरण
दैनिक भास्कर रोहतक के एडीटोरियल हेड जितेंद्र श्रीवास्तव ने ट्रेन से कटकर की आत्महत्या
राजस्थान पत्रिका समूह के सलाहकार संपादक बने ओम थानवी
दैनिक जागरण के चार पत्रकारों को जिंदा जलाने का प्रयास
‘महापाप’ की रिपोर्टिंग से रोक हटाएं मी लार्ड :एडिटर्स गिल्ड ऑफ इंडिया
पत्रकार विनायक विजेता ने भड़ास4मीडिया के यशवंत सिंह से कहा- तथ्यों पर आधारित है उनकी खबर
कानू सान्याल की तस्वीर से मचा हड़कंप
नहीं रहे दैनिक भास्कर के ग्रुप एडिटर कल्पेश याग्निक, हार्ट अटैक से मौत
एसएसपी ने बाहूबली को दी अखबार पर केस करने की सलाह !
दैनिक हिन्दुस्तान पर डीएसपी ने ठोका मानहानि का मुकदमा
दैनिक भास्कर रिपोर्टर पर हमला से शीघ्रतम पर्दा उठाए राजगीर पुलिस
कुशासन की कीमत बसूल रहे हैं बिहार के अखबार
लुआठी' के सम्पादक ‘आकाश खूंटी’ को मिला ‘श्रीनिवास पानुरी स्मृति सम्मान’
पटना-नालंदा के अखबारों में यूं छापे जा रहे हैं उपयोगिता विहीन सरकारी विज्ञापन
दैनिक हिंदुस्तान में संपादकों का बड़ा फेरबदल, रांची से गिरीश मिश्र गये दिल्ली

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...