एक्सपर्ट मीडिया के खुलासे पर यूं बौखलाए कतिपय रिपोर्टर

Share Button
हाई स्कूल अकबरपुर द्वारा प्रेषित प्रमाण पत्र….

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क/मुकेश भारतीय। एक्सपर्ट मीडिया द्वारा शोसल मीडिया पर विगत 14 दिसंबर को सीएम नीतीश कुमार के गृह जिले नालंदा के दीपनगर थानान्तर्गत मघड़ा गांव में  एक कथित दहेज मुक्त विवाह की तस्वीरों के लाए गए सच को लेकर वहां के कुछ लोग इस तरह तिलमिला उठे हैं, मानो उस गैरकानूनी बाल विवाह में उनकी खुली संलिप्ता रही हो। इसमें कतिपय रिपोर्टर भी बौखलाए दिख रहे हैं।

क्राइम ब्रेकिंग नालंदा नामक व्हाट्सएप्प ग्रुप की एक स्नैपशॉट प्राप्त हुई है। उसमें एक कतिपय रिपोर्टर ने लिखा है कि “लगता है कि एक्सपर्ट मीडिया कानून से भी उपर हो गया है। कानून की कागजात को भी झूठला रहा है।”

उस कतिपय रिपोर्टर ने एक्सपर्ट मीडिया न्यूज की सूचनाओं को अफवाह करार देते हुए युवक-युवती एक शपथ पत्र की प्रति पोस्ट की है।

दरअसल, कोई भी शपथ पत्र व्यक्ति द्वारा नीजि तौर पर यह कहते हुए दाखिल किया जाता है कि वह जो जानकारी दे रहा है, अगर वह गलत या भ्रामक निकला तो उसके लिए वह स्वंय ही जिम्मेवार होगा।

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज के पास नाबालिग जोड़ी जिस हाई स्कूल में पढ़ते थे, वहां प्रधानाध्यापक द्वारा हिलसा प्रखंड विकास पदाधिकारी सह बाल विवाह निषेध पदाधिकारी को प्रेषित प्रमाण पत्र की कॉपी प्राप्त हुई है। उसमें सारा सच साफ लिखा हुआ है।

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज कभी भी किसी अफवाह को बल नहीं देता है। किसी भी मामले की पड़ताल और प्रेस अधिकार के तहत उसे सामने लाता है। हम हर खबर को चुनौती से लेते हैं और सामने वाले को झुठलाने की चुनौती देते हैं।

ऐसे में नालंदा जिले के शीर्ष पुलिस प्रशासन को चाहिए कि इस मामले में त्वरित जांच-कार्रवाई से उन लोगों को सार्थक सबक सिखाए, जो खुद अज्ञानता की लकीरें गढ़ते हैं और पकड़े जाने पर सियार बन ‘हुंआ-हुंआ’ कर सच को दबा एक भ्रम का माहौल बनाना शुरु कर देते हैं।

नीचे देखिए कि एक्सपर्ट मीडिया न्यूज के खुलास के बाद कतिपय रिपोर्टर कैसे महज एक छोटी सी सच्चाई झेलने की स्थिति में नहीं हैं और कैसे हुंआ-हुंआ कर रहे हैं…..

इस खुलासे पर बौखलाए…..

एक्सपर्ट मीडिया की पड़ताल में ‘दूल्हा’ 15साल और 17साल की निकली ‘दुल्हन’

Share Button
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.