उपेक्षित है नेताजी से जुड़े झरिया कोयलाचंल का यह विरासत

Share Button

neta ji

‘तुम मुझे खून दो मैं तुझे आजादी दूगां’ नारे को अजांम तक पहुंचाने वाले भारत मां के वीर सपूत नेताजी सुभाष चंद्र बोस का झरिया कोयलाचंल से गहरा नाता रहा है।

आजादी की लड़ाई के दौरान नेताजी सुभाष चंद्र बोस कई दफा झारखंड का झरिया कोयलाचंल के विभिन्न क्षेत्रों में न केवल आये, बल्कि मजदूरों के साथ बैठकें भी कीं।

दरअसल धनबाद के बरारी कोक प्लांट में नेताजी के एक रिश्तेदार अभियंता पद पर कार्यरत थे। अपने महत्वपूर्ण अभियान पर भारत छोड़ने से पूर्व गोमो स्टेशन जाने के लिए जिस कार का इस्तेमाल नेताजी ने किया था, वह आज भी धरोहर के रूप में कोयलांचल में मौजूद है।

हालांकि यह बात और है कि इसके रख-रखाव की उचित व्यवस्था नहीं की गयी है। बीसीसीएल के धनबाद स्थित गेस्ट हाउस परिसर में उक्त कार आज भी देखी जा सकती है।

पूर्व में जब बीसीसीएल निर्देशक के पद पर टीके लोहिड़ी थे, तो उन्होंने इस अमूल्य धरोहर के बेहतर रख-रखाव करने की व्यवस्था की घोषणा की थी। लेकिन निर्देशक पद से उनकी सेवानिवृत के बाद यह योजना ठंढे बस्ते में चली गयी।

यह बात काफी महत्वपूर्ण है कि एक तरफ प्रधानमंत्री श्री मोदी ने नेताजी से जुड़ी महत्वपूर्ण रिपोर्ट की फाइलें सार्वजनिक कीं।

वहीं धनबाद में नेताजी की इस एकमात्र स्मृति की ओर सरकार और बीसीसीएल प्रबधंन का ध्यान नहीं गया है। गोमो स्टेशन का नाम आज भले ही नेताजी के नाम से सर्वविदित है, पर झरिया कोयलांचल के जिस जोरापोखर क्षेत्र के अपने सहयोगी रुनू सेन के आवास में वह ठहरते थे, कि ओर किसी का ध्यान नहीं है।

झरिया का तिलक भवन आज भी नेताजी सुभाषचंद्र बोस की स्मृति को संजोये हुए है। यहां नेताजी क्रांतिकारियों के साथ गुप्त बैठकें करते थे।

झरिया का राज ग्राउंड भले ही आज सिमट गया है, लेकिन इस स्थल पर कभी नेताजी ने ऑल इंडिया ट्रेड यूनियन को संबोधित किया था। इधर झरिया भागा रोड में नेताजी की प्रतिमा स्थापित की गयी है।

Share Button

Relate Newss:

अमेरिकी दूतावास ने यूं पढ़ाया इस बड़े रूसी अखबार को व्‍याकरण का पाठ
...और मनीषा कोइराला की एक ट्वीट से चमक उठी महिला कांस्टेबल
पाकिस्तान में ‘टीवी टैलंट हंट शो' को लेकर बवाल, जियो टीवी को बता रहे हैं गद्दार
बादल को मंडेला बता कर मजाक के पात्र बने मोदी
व्यवस्था देने में फेल रहे केजरीवाल
मांझी ने बनाया हम, नीतिश को बताया दुश्मन नं.1
इस तरह के भूल से क्यों नहीं बच पा रहा है दैनिक भास्कर   
डीसी, एसपी, महिला आयोग और पत्रकारों ने डुबोई सरायकेला जिले की प्रतिष्ठा
हाई कोर्ट ने सरकार से पूछा- MBBS छात्राओं संग पुलिस ने क्यूं की ऐसी बर्बरता
फेसबुक से लोग चुन-चुन कर हटा रहे इस 'लेडी ब्रजेश ठाकुर' की तस्वीरें
बहुत जरुरी है सोशल साइट से मिली तस्वीरों की जाँच
दैनिक हिन्दुस्तान और प्रभात खबर में एक ही संवाददाता की हुबहू खबर!
सितंबर-अक्तूबर के महीने में होंगे बिहार विधानसभा चुनाव
धनबाद प्रेस क्लब का निर्णय-300 रुपये दें और सदस्य बनें
NDTV इंडिया के प्रसारण पर 24 घंटे की सरकारी रोक !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...