उज्जैन शिप्रा तट पर गधों के मेले में अव्वल लालू-नीतीश की जोड़ी

Share Button

nitish assमध्य प्रदेश के उज्जैन शिप्रा तट पर कार्तिक मास की एकादशी से  मध्यप्रदेश के पौराणिक शहर उज्जैन में एक अनूठा मेला लगता है। यहां हर कहीं गधों की रौनक रहती है।

यहां गधों का पारंपरिक मेला लगता है। हर साल यहां आने वाले गधों को शाहरूख, सलमान और फीमेल को रानी आदि नाम दिए जाते हैं।

मेले में बिहार में महागठबंधन की जीत का असर भी साफतौर पर दिखाई दे रहा है। इस बार इन गधों का नाम कुछ अलग अंदाज़ में रखा गया है।

nitish assअब बिहार में हिट जोड़ी लालू – नीतीश यहां असर दिखा रही है। इन गधों पर राजनीतिक लोकप्रियता का असर इतना है कि इनके नाम नीतीश कुमार, माया और लालू के नाम पर दिए गए हैं।

हालांकि गधों की खरीदी और इनकी उम्र की पहचान इनके दांतों से की जाती है। जबड़ा देखकर गधे की उम्र जानी जाती है।

कार्तिक मेला मैदान के पास बड़नगर रोड़  पर गधे का मेला लगाया जाता है। व्यापारियों के अनुसार मध्यप्रदेश, राजस्थान और महाराष्ट्र समेत विभिन्न प्रांतों के व्यापारी भी गधों के मेले में पहुंचते हैं।

आयु के अनुसार गधों की कीमत लगाई जाती है। अब तो मेले ने एक बड़ा स्वरूप ले लिया है। 

मेले में गधे 4 हजार के शुरूआती दामों पर बिक रहे हैं तो दूसरी ओर  20 हजार रूपए तक के गधों की नस्ल का भी पता लगया गया है।

इस बार ख्च्चर करीब 40 हजार रूपए के दाम  पर बिक  रहे हैं।

Share Button

Relate Newss:

सीएम रघुबर दास के पॉल्टिकल एडवाइजर से प्रेस एडवाइजर बने अजय कुमार
नहीं रहे दैनिक भास्कर समाचार पत्र समूह के चेयरमैन रमेशचंद्र अग्रवाल
बिहार में भाजपा का प्रदर्शन निराशाजनक  :शत्रुघ्न सिन्हा
आपकी आवाज दबाने वाले लोग हैं असली देशद्रोही :राहुल गांधी
आपके बोल से चिढ़ हो रही है सुशासन बाबू !
सीएम रघुबर दास की इस हरकत पर कानून के साथ मीडिया भी नंगी
'राम रहीम' को लेकर सिरसा में 144 लागू!
किक्रेट छोड़ कर राजनीति संभाली और पहली बार में ही मंत्री बने लालू के 'तेजस्वी' लाल
जेल से छूटते ही बंजारा बोले, 'आ गए अच्छे दिन'
एक्सपर्ट मीडिया के खुलासे पर यूं बौखलाए कतिपय रिपोर्टर
पगड़ी, फोटो, रिलायंस-अलायंस जैसे मुंडा के प्रयासों का क्या होगा असर ?
विकल्प है, लेकिन अंधे हैं आप !
6 जुलाई खत्म, राजगीर मलमास मेला सैरात की अतिक्रमण भूमि पर चलेगा बुल्डोजर
कलेक्ट्रिएट में चल रहा एनजीओ परिहार- ‘इट्स हेपेन्ड ओनली इन बिहार’
रेलवे की जमीन से जारी पशुओं की अवैध खरीद-बिक्री पर प्रशासन की वैध मुहर !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...