ई राजनीति में पुत्र मोह जे न करावे

Share Button

मुकेश भारतीय

राजनीति में तो कब्र की दहलीज पर भी वह करा जाती है, जिसकी कल्पना भी नहीं की जा सकती।अब देखिये न। उतराखंड के बाबा भाजपा में शामिल हो गये हैं। उन्हें उनके डीएनए टेस्ट पास शहजादे साहेब शाह जी के दरबार में खींच ले गये हैं। 
सतकीय उम्र की दहलीज की ओर बढ़ रहे ये बाबा दो राज्यों उत्तर प्रदेश तथा उत्तराखंड के कांग्रेसी मुख्यमंत्री, केंद्रीय मंत्री तथा आंध्र प्रदेश के राज्यपाल रह चुके हैं।  हालांकि बाबा महामहिम का कार्यकाल पूरा नहीं कर पाये। उन्हें बीच में ही बहुचर्चित सेक्स स्कैंडल के उपले की वजह से पद त्यागना पड़ा था।

जरा याद कीजिये। वही शहजादे साहेब हैं, जिन्हें बाबा ने 3 साल पहले काफी फजीहत और 6 साल की कानूनी डीएनए मिलान के बाद अपना लहु अंगीकार किया था।

ऐसे बाबा को भाजपा में लाने के पीछे उत्तराखंड में पंडित वोटों का मजबूत जुगाड़ बताया जा रहा है लेकिन वहां अगले माह जो आम विधानसभा चुनाव होने जा रहे हैं, उस पहाड़ी हल्के के पार्टी पहले से ही विद्रोह की चपेट में है। इसका मूल कारण यह है कि  भाजपा ने प्रथम चरण के दंगल में 15 से उपर ऐसे सूरमाओं को मैदान में उतारा है, जो नवांतुक हैं।  

बाबा कल तक कांग्रेस के दुलरुआ माने जाते रहे हैं। 90 के दशक में उन्होंने साथी दिग्गज अर्जुन सिंह के साथ खुद की पार्टी बना ली थी लेकिन सोनिया जी की पार्टी कमान संभालते हीं हृदय परिवर्तन हो गया।

अब देखना है कि पुत्र मोह बस बाबा का एक बार फिर आया हृदय परिवर्तन क्या उमस बिखेरती है। कहते हैं कि बाबा के शहजादे को यह प्रेरणा रामबिलास-चिराग से मिली है। रामबिलास भाजपा के घोर विरोधी थे और उन्हें भी चिराग लालू सरीखे सखा से खींचते-खांचते मोदी-शाह जी की शरण में लेकर चले गये। तब दोनों पिता-पुत्र मैदान मारने में कामयाब रहे। अब बाबा और शहजादे साहेब चुनावी रेस में कितना आगे भाग पाते हैं, यह राम जाने।

Share Button

Relate Newss:

दैनिक हिन्दुस्तान विज्ञापन घोटाले में गिरफ्तार हो सकते हैं शशि शेखर समेत शोभना भरतिया
बदल गई सोशल मीडिया, गूगल से फेसबुक तक जारी है बदलाव
दैनिक जागरण पर चुनाव आयुक्त ने दिया FIR दर्ज करने का निर्देश
कानू सान्याल की तस्वीर से मचा हड़कंप
पत्रकार को सिर्फ पत्रकार होना जरूरी नही !
पीएम मोदी को बोलने की तमीज सीखना चाहियेः राहुल गांधी
श्रीराम पर केस के बाद अब उनके भक्त हनुमान को भेजा नोटिस
हिन्दी के ही एफएम चैनल कर रहे हैं हिन्दी का बेड़ा गर्क :राहुल देव
आंचलिक पत्रकार संघ और शासन की दाल में फिर दिखा भयादोहन का तड़का
गया पार्लर कांड: CM नीतिश के बेटे को फंसाने की थी साजिश!
काले धन की काली लड़ाई, राम दुहाई राम दुहाई
ब्रजेश ठाकुर के भाई एवं अखबार के पटना ब्यूरो चीफ झूलन के हाथ में कहां से आया इंसास रायफल
एडीजी अनुराग गुप्ता के खिलाफ हेमंत सोरेन ने की एसटीएसी थाना में मुकदमा
जानिए कौन है गांधी जी की मॉडर्न हत्यारिन पूजा शकुन पांडे ?
'रघुबर सरकार ने रांची की निर्भया कांड की CBI जांच की अनुशंसा तक नहीं की'

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...