इंडियन जर्नलिस्ट एसोसियन द्वारा पत्रकार को झूठे मुकदमा में फंसाने की निंदा

Share Button

किशनगंज के पत्रकार अमित कुमार को स्थानीय पुलिस द्वारा झूठे मुकदमा में फ़साने की घटना का इंडियन जर्नलिस्ट एसोसियन ने कड़ी निंदा की है।

प्रदेश संयुक्त सचिव संजय कुमार सुमन ने  मामले की उच्च स्तरीय जांच करवाने की मांग करते हुए कहा कि ऐसी घटना पत्रकारिता की आजादी के लिए खतरा है। समाज के चौथे स्तंभ माने जाते मीडिया को खुलकर लिखने व लोगों के सामने सच्चाई पेश करने की पुरा अधिकार है। परन्तु लोगों की आवाज को उठाने वाले पत्रकारों को झूठे मुकदमे में  फ़साना सरासर गलत है।

उन्होंने कहा कि मामले की जाँच कर अगर आरोपियों को जल्द से जल्द गिरफ्तार न किया गया, तो संघर्ष शुरू किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि पत्रकार अमित जो कि प्रशासन की प्रशासनिक खामियों को बराबर उजागर करने का न्यूज बेखूबी , बेवाक, निर्भिक होकर दिखाया करते थे जिस वजह से यह मामला साजिशन स्थानीय प्रशासन द्वारा किया गया प्रतीत होता है। इसमें स्थानीय थानाध्यक्ष का पत्रकार विरोधी नीति व कार्य निंदनीय है।

उन्होंने कहा कि पत्रकार पर दबाव बनाने और अपनी भ्रष्टाचार को छिपाने के लिऐ उन पर झूठे मामले दर्ज  कराने से राजनैतिक लोग बाज नहीं आ रहे वही पुलिस प्रशासन भी पत्रकारो पर मामले दर्ज  करने के लिये वेतावी से इंतजार करते है।

उन्होंने कहा कि झूठा मामला वापिस लिया जाऐ।पत्रकार  स्वतंत्रता का चौथा स्तभ होता है और इस प्रकार कि कार्यवाही से उसका मनोबल गिरता है।

Share Button

Relate Newss:

महागठबंधन के हाथों मिली करारी हार के बाद ब्रिटेन में लगे पोस्टर 'मोदी नॉट वेलकम '
डॉक्टर ने पांच परिजनों को जहर की सूई देकर मार डाला!
करोड़ो के पार्श्व नाथ की मूर्ति तोड़ने वाले दो अपराधी धराया
कम्यूनल-अनसोशल वीडियो वायरल करने वाले ऐसे पुलिसकर्मी पर हो क्वीक एक्शन
पत्रकार हत्याकांड: आशा रंजन को केस वापस नहीं लेने पर टुकड़े-टुकड़े कर डालने की धमकी
...और मनीषा कोइराला की एक ट्वीट से चमक उठी महिला कांस्टेबल
फोटो जर्नलिस्ट की पीट-पीटकर हत्या, उधर बुजुर्ग पिता की भी गई जान
अपनी बात पहुंचाने का एक प्रयास है किसान चैनल  :पीएम
पत्रकार को निर्भीकता से निष्पक्ष खबर लिखने की जरुरत
दैनिक हिंदुस्तान के मगध संस्करण में फिर छपे एक्सपायर्ड विज्ञापन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...