आलोक श्रीवास्तव को ‘राष्ट्रीय दुष्यंत कुमार अलंकरण’ सम्मान

Share Button

जाने-माने युवा कवि, लेखक और टीवी पत्रकार आलोक श्रीवास्तव को साल 2014 के ‘राष्ट्रीय दुष्यंत कुमार अलंकरण’ से सम्मानित किया जाएगा।

alok-srivastavaदुष्यंत कुमार स्मारक पाण्डुलिपि संग्रहालय, भोपाल की ओर से हर साल दिए जाने वाले इस प्रतिष्ठित अलंकरण की घोषणा 17 मार्च को भोपाल में की गई।

साल 1998 में राष्ट्रीय स्तर पर स्थापित यह अलंकरण पहली बार दुष्यंत के ही तेवर के शायर अदम गोंडवी को दिया गया था।

तब से अब तक अनेक ख्यातनाम साहित्यकारों को यह प्रतिष्ठित अलंकरण दिया जा चुका है, जिनमें डॉ. ज्ञान चतुर्वेदी, लीलाधर मंडलोई, निदा फाज़ली, अशोक चक्रधर, चित्रा मुद्गल, राजेश जोशी, मृणाल पाण्डेय और मृदुला गर्ग के नाम प्रमुख हैं।

‘राष्ट्रीय दुष्यंत कुमार अलंकरण’ पाने वालों में आलोक श्रीवास्तव सबसे कम उम्र के रचनाकार हैं।

Share Button

Relate Newss:

गणतंत्रः लेकिन गण पर हावी है तंत्र
नागपुर में नितिन गड़करी का पोस्टर, बताया 'विदर्भ का डाकू'
सोशल मीडिया को भी प्रेस परिषद दायरे में लाना चाहिएः अध्यक्ष न्यायमूर्ति सी.के. प्रसाद
दैनिक जागरण के प्रतिनिधि की गोली मार कर हत्या, सगा भाई भी जख्मी
नालंदा एसपी ने रात मुखबिर बन की खुद पड़ताल और फिर दिन उजाले निरीक्षण कर 5 सिपाही को किया सस्पेंड
ओ री दुनियाः गरीब का जीवन कुक्कुर से भी बदतर देखा
कलेक्ट्रिएट में चल रहा एनजीओ परिहार- ‘इट्स हेपेन्ड ओनली इन बिहार’
रांची-हजारीबाग एन.एच.33 फोरलेन निर्माण के दौरान जम कर हुईं लूट-खसोंट
वेबसाइट पर तस्वीरों के प्रकाशन के पहले जरुरी है ये तकनीकी समझ
मुख्यमंत्री जनसंवाद 181 ने भी नहीं ली इस अमानवीयता की सुध !
बिहार में है प्रशासनिक खौफ का राज, सीएम तक होती है अनसुनी
YBN न्यूज़ चैनल दफ्तर में हंगामा और तालाबंदी, बोरिया-बिस्तर समेत भागते दिखे चैनलकर्मी
अंततः कोर्ट के आदेश से दर्ज हुआ इंजीनियरों पर गबन का FIR
सोशल मीडिया को लेकर यूं गंभीर हुये नालंदा के डीएम-एसपी
सुनिये ऑडियोः राजगीर थाना में बैठ इस शातिर ने पहले किया फोन, फिर किया राजनामा के संपादक पर फर्जी केस

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...