अरविन्द केजरीवाल के दलाल हैं पुण्य प्रसुन वाजपेयी ?

Share Button
Read Time:5 Minute, 1 Second

आम आदमी पार्टी के नेता अरविंद केजरीवाल एक नए विवाद में घिर गए हैं, जिसके बाद केजरीवाल पर मीडिया से सेटिंग करने के आरोप लग रहे हैं. केजरीवाल से जुड़ा एक वीडियो यूट्यूब पर वायरल हो चला है, जिसमें वो वरिष्ठ पत्रकार और ‘आज तक’ के एंकर पुण्य प्रसून वाजपेयी से उनके इंटरव्यू के कुछ खास हिस्सों पर जोर देने के लिए कहते हुए दिख रहे हैं. अब सवाल उठने लगा है कि क्या पुण्य प्रसून केजरीवाल के दलाल है?

kejriwal-aajtakएक मिनट से ज्यादा के वीडियो में केजरीवाल और टेलीविजन चैनल के एंकर के बीच साक्षात्कार के बाद वार्तालाप दिखाया गया है। वार्तालाप में टेलीविजन एंकर से केजरीवाल यह कहते हुए नजर आ रहे हैं कि साक्षात्कार के किस हिस्से को अधिक दिखाने पर जोर देना है।

वीडियो में केजरीवाल यह कहते हुए नजर आ रहे हैं, कृपया इसे ज्यादा चलायें। इस पर टेलीविजन चैनल के एंकर का कहना है कि हां हम इसे ज्यादा दिखायेंगे। भगत सिंह के बारे में टिप्पणी अच्छी है। हमें इस पर काफी प्रतिक्रिया मिलेगी।

केजरीवाल ने यह साक्षात्कार दिल्ली के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने के बाद दिया था। मजेदार बात यह है कि यह वीडियो ऐसे समय में सामने आया है जब केजरीवाल मीडिया की आलोचना कर रहे हैं। केजरीवाल कई बार यह कह चुके हैं कि मीडिया का एक वर्ग उनके खिलाफ है।

बीजेपी ने कहा कि बड़ी-बड़ी बातें करने वाले आप के नेता अरविंद केजरीवाल को एक न्यूज चैनल को इंटरव्यू देने के बाद उसके प्रसारण के समय किन बातों को उभारने और किन को दबाने की बात करते हुए रंगे हाथ पकड़े जाने ने ‘पुण्य’ के ‘पाप’ से मिलन की पोल खोल दी है। जेटली ने ब्लॉग में केजरीवाल के इस इंटरव्यू का जिक्र करते हुए कहा है कि अपनी एक खास इमेज बनाए रखना आम आदमी पार्टी की रणनीति रही है। विडियो से यह साफ तौर पर दिखता है कि पार्टी और उसके नेता अपनी छवि चमकाने के लिए कैसा छल करते हैं। वे अपनी छद्म छवि को प्रोजेक्ट करते हैं। जब पुण्य पाप से मिलता है तो साजिश की गुंजाइश नहीं रहती है।

राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष ने अपने ब्लॉग में लिखा है कि लगता है कि आम आदमी पार्टी के साथ मीडिया का हनीमून खत्म हो चुका है। जेटली ने दावा किया कि मीडिया से आप का हनीमून खत्म हो गया, वहीं जनता में भी उसकी साख तेजी से गिर रही है। इसके उदाहरण के रूप में उन्होंने उसके कुछ लोकसभा उम्मीदवारों द्वारा नामांकन वापस किए जाने का उल्लेख किया। उन्होंने कहा, ‘ऐसा पहले कभी नहीं देखा गया कि सार्वजनिक रूप से पार्टी द्वारा उम्मीदवारी की घोषणा कर दिए जाने के बाद प्रत्याशी उसे ठुकरा दें। ऐसा केवल तभी होता है जब उम्मीदवार को लगता है कि ऐसी पार्टी के टिकट से जीतना असंभव है।

उधर, साक्षात्कार करने वाले चैनल ने कहा है कि एक स्वतंत्र चैनल की उसकी प्रतिष्ठा को गिराने के लिए यह किया जा रहा है। चैनल ने कहा है कि केजरीवाल के साथ पूरा साक्षात्कार 14 फरवरी को लाइव दिखाया गया था।

चैनल का कहना कि साक्षात्कार का कोई भी हिस्सा संपादित करके नहीं दिखाया गया। पूरा साक्षात्कार लाइव दिखाया गया है। साक्षात्कार को रिपीट करने पर भी उसे संपादित नहीं किया गया।

उधर, आम आदमी पार्टी इस विडियो के बाद बैकफुट पर है। पार्टी की नेता शाजिया इल्मी ने कहा कि विडियो में विवाद वाली कोई बात नहीं है। उन्होंने इंटरव्यू में साठगांठ की खबरों को खारिज कर दिया। 

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

मानव तस्करी की मंडी में सुबकते मासूम
पेड न्यूज के दोषी दैनिक जागरण को सरकारी विज्ञापन पर केन्द्र सरकार ने लगाई रोक
सरकारी विज्ञापनों में अब नहीं दिखेगा पांच साल तक सिर्फ पीएम का चेहरा
बर्खास्त रिपोर्टर को लेकर खामोश क्यों है पत्रकार संघ और परिषद
मरांडी ने हार्स ट्रेडिंग को लेकर जारी की ऑडियो-वीडियो, कहा- इस्तीफा दें रघुवर
मांझी ने बनाया हम, नीतिश को बताया दुश्मन नं.1
साजिश का हिस्सा है 'केजरी-पुण्य वीडियो' का वायरलीकरण
वेशक यह व्यंग्य मात्र नहीं, कतिपय सरकारी स्कूल का आयना है
आखिर चाहता क्या है सुप्रीम कोर्ट ?
मैं सरकारी कर्मचारी नहीं, प्रेस परिषद का अध्यक्ष हूं :जस्टिस काटजू
3 हजार लोगों का फोन कॉल टेप कर रही है रघुवर सरकार :मरांडी
अरविंद केजरीवाल की ईमानदारी पर NDTV के रवीश का जवाब
मेहमानों को भी बेइज्जत करने से नहीं चूके झारखंडी अफसर
जागरण.कॉम के संपादक शेखर त्रिपाठी को मिली जमानत
गोड्डा में दिखेगी शंकर सम्राट का हैरतअंगेज जादू
रांची वुमेंस कॉलेज के प्राचार्या ने Z News के लाइव रिपोर्टर से माइक छीनी
दैनिक जागरणः संपादक ने कहा तलवा चाटनेवाला तो रिपोर्टर ने कहा सबूत दिखाइए !
भारतीय मंदिर, जो कभी दिखता है तो कभी गायब हो जाता है
पत्रकार ओम थानवी की मुलाकात में असहिष्णुता को लेकर चिंतित दिखे राष्ट्रपति
प्रेस क्लब रांची की नई कमिटी की बैठक में पेंडिंग आवेदनों पर नहीं हुई कोई चर्चा
लुआठी' के सम्पादक ‘आकाश खूंटी’ को मिला ‘श्रीनिवास पानुरी स्मृति सम्मान’
शॉटगन का विजयवर्गीय पर पलटवार-  'हाथी चले बिहार.....भौंके हजार'
आखिर कौन है गुमला DDC अजनी कुमार का दुलरुआ !
पाकिस्तानी ब्लॉगर ने बीबीसी पर लिखा- बिहार नतीजे पर पाकिस्तान में पटाख़े फूटे ही फूटे
राष्ट्रीय पुरस्कार लौटाने वाले समेत 24 हस्तियों में सईद मिर्जा, कुंदन शाह, अरुंधति राय भी शामिल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...