अरविन्द केजरीवाल के दलाल हैं पुण्य प्रसुन वाजपेयी ?

Share Button

आम आदमी पार्टी के नेता अरविंद केजरीवाल एक नए विवाद में घिर गए हैं, जिसके बाद केजरीवाल पर मीडिया से सेटिंग करने के आरोप लग रहे हैं. केजरीवाल से जुड़ा एक वीडियो यूट्यूब पर वायरल हो चला है, जिसमें वो वरिष्ठ पत्रकार और ‘आज तक’ के एंकर पुण्य प्रसून वाजपेयी से उनके इंटरव्यू के कुछ खास हिस्सों पर जोर देने के लिए कहते हुए दिख रहे हैं. अब सवाल उठने लगा है कि क्या पुण्य प्रसून केजरीवाल के दलाल है?

kejriwal-aajtakएक मिनट से ज्यादा के वीडियो में केजरीवाल और टेलीविजन चैनल के एंकर के बीच साक्षात्कार के बाद वार्तालाप दिखाया गया है। वार्तालाप में टेलीविजन एंकर से केजरीवाल यह कहते हुए नजर आ रहे हैं कि साक्षात्कार के किस हिस्से को अधिक दिखाने पर जोर देना है।

वीडियो में केजरीवाल यह कहते हुए नजर आ रहे हैं, कृपया इसे ज्यादा चलायें। इस पर टेलीविजन चैनल के एंकर का कहना है कि हां हम इसे ज्यादा दिखायेंगे। भगत सिंह के बारे में टिप्पणी अच्छी है। हमें इस पर काफी प्रतिक्रिया मिलेगी।

केजरीवाल ने यह साक्षात्कार दिल्ली के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने के बाद दिया था। मजेदार बात यह है कि यह वीडियो ऐसे समय में सामने आया है जब केजरीवाल मीडिया की आलोचना कर रहे हैं। केजरीवाल कई बार यह कह चुके हैं कि मीडिया का एक वर्ग उनके खिलाफ है।

बीजेपी ने कहा कि बड़ी-बड़ी बातें करने वाले आप के नेता अरविंद केजरीवाल को एक न्यूज चैनल को इंटरव्यू देने के बाद उसके प्रसारण के समय किन बातों को उभारने और किन को दबाने की बात करते हुए रंगे हाथ पकड़े जाने ने ‘पुण्य’ के ‘पाप’ से मिलन की पोल खोल दी है। जेटली ने ब्लॉग में केजरीवाल के इस इंटरव्यू का जिक्र करते हुए कहा है कि अपनी एक खास इमेज बनाए रखना आम आदमी पार्टी की रणनीति रही है। विडियो से यह साफ तौर पर दिखता है कि पार्टी और उसके नेता अपनी छवि चमकाने के लिए कैसा छल करते हैं। वे अपनी छद्म छवि को प्रोजेक्ट करते हैं। जब पुण्य पाप से मिलता है तो साजिश की गुंजाइश नहीं रहती है।

राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष ने अपने ब्लॉग में लिखा है कि लगता है कि आम आदमी पार्टी के साथ मीडिया का हनीमून खत्म हो चुका है। जेटली ने दावा किया कि मीडिया से आप का हनीमून खत्म हो गया, वहीं जनता में भी उसकी साख तेजी से गिर रही है। इसके उदाहरण के रूप में उन्होंने उसके कुछ लोकसभा उम्मीदवारों द्वारा नामांकन वापस किए जाने का उल्लेख किया। उन्होंने कहा, ‘ऐसा पहले कभी नहीं देखा गया कि सार्वजनिक रूप से पार्टी द्वारा उम्मीदवारी की घोषणा कर दिए जाने के बाद प्रत्याशी उसे ठुकरा दें। ऐसा केवल तभी होता है जब उम्मीदवार को लगता है कि ऐसी पार्टी के टिकट से जीतना असंभव है।

उधर, साक्षात्कार करने वाले चैनल ने कहा है कि एक स्वतंत्र चैनल की उसकी प्रतिष्ठा को गिराने के लिए यह किया जा रहा है। चैनल ने कहा है कि केजरीवाल के साथ पूरा साक्षात्कार 14 फरवरी को लाइव दिखाया गया था।

चैनल का कहना कि साक्षात्कार का कोई भी हिस्सा संपादित करके नहीं दिखाया गया। पूरा साक्षात्कार लाइव दिखाया गया है। साक्षात्कार को रिपीट करने पर भी उसे संपादित नहीं किया गया।

उधर, आम आदमी पार्टी इस विडियो के बाद बैकफुट पर है। पार्टी की नेता शाजिया इल्मी ने कहा कि विडियो में विवाद वाली कोई बात नहीं है। उन्होंने इंटरव्यू में साठगांठ की खबरों को खारिज कर दिया। 

Share Button

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.