ऐसा क्यों करते हैं अम्बेडकरनगर नगर PRDA के मिश्र और खान

Share Button
Read Time:5 Minute, 30 Second
रीता विश्वकर्मा पत्रकार जिला प्रतिनिधि दैनिक मान्यवर (हिन्दी दैनिक) अकबरपुर, अम्बेडकरनगर (उ.प्र
रीता विश्वकर्मा
पत्रकार
जिला प्रतिनिधि
दैनिक मान्यवर (हिन्दी दैनिक)
अकबरपुर, अम्बेडकरनगर (उ.प्र

मित्रों! आपको बताना चाहती हूँ कि मैं उत्तर प्रदेश के अम्बेडकरनगर जिले की निवासिनी हूँ और विगत एक दशक की अवधि से प्रिण्ट मीडिया में सक्रिय रूप से पत्रकारिता कर रही हूँ। मैं जौनपुर/वाराणसी (उ.प्र.) से प्रकाशित होने वाले हिन्दी दैनिक समाचार-पत्र ‘दैनिक मान्यवर’ की जिला संवाददाता हूँ।

मैंने कई वर्षों से सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग अम्बेडकरनगर (उ.प्र.) में शासकीय मान्यता हेतु आवेदन-पत्र जमा कर रखा है। मेरे साथ के दर्जनों संवाददाताओं को मान्यता मिल चुकी है परन्तु मुझे जिला सूचना कार्यालय अम्बेडकरनगर में कार्यरत श्री दिवाकर दत्त मिश्र और श्री वसीम खान जी पाँच वर्षों से टरका रहे हैं।
मित्रों! आप को बताना चाहती हूँ कि मेरे द्वारा आवेदन-पत्र में वाँछित/अपेक्षित समस्त औपचारिकताएँ पूरी की जा चुकी हैं। कई बार एल.आई.यू. रिपोर्ट्स भी लग चुकी है। इन दो पुराने सूचना कर्मियों द्वारा मेरी पत्रावली को या तो मान्यता समिति के समक्ष प्रस्तुत ही नहीं किया जाता है, या फिर कोई और कारण हो सकता है। मुझे मान्यता क्यों नहीं मिली….?

जब पूँछती हूँ तो ये लोग इधर-उधर की बातें और कारण बताकर टरका दिया करते हैं। गत दिवस मैंने जब श्री दिवाकर दत्त मिश्र जी से अपनी मान्यता के बारे में पूँछा तो उन्होंने स्पष्ट कहा कि तुम उनसे मिलती नहीं हो….?

मैं आश्चर्य में पड़ गई कि मिश्रा जी से किस तरह मिलूँ, मैं उन पर कोई आक्षेप नहीं लगा रही हूँ, लेकिन दुःख इस बात का है कि एक महिला पत्रकार जो अपने कार्य के प्रति सक्रिय है उसके साथ ऐसा बर्ताव क्यों?
मित्रों! मुझे बीते त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के लिए ‘प्रेस पास’ भी नहीं प्राप्त हुआ है और न इससे पूर्व किसी प्रेस कान्फ्रेन्स के लिए बुलाया जाता है।

मुझे ज्ञात हुआ है कि श्री दिवाकर दत्त मिश्रा और श्री वसीम खान साहेब ‘दैनिक मान्यवर’ के प्रेस पास अपने चहेतों को दे देते हैं। एक बात और दैनिक मान्यवर अम्बेडकरनगर की जिला संवाददाता मैं हूँ और जिले के ब्यूरो प्रभारी वरिष्ठ पत्रकार भूपेन्द्र सिंह गर्गवंशी हैं, दोनों की अनदेखी करना जिला सूचना कार्यालय के इन वरिष्ठ कर्मियों द्वारा आम बात है। दैनिक मान्यवर को जिला प्रशासन की प्रेस विज्ञप्तियाँ देना ये लोग अपनी तौहीन समझते हैं। इस बावत पूँछने पर स्पष्ट कहते हैं कि सैकड़ों पत्रकार हैं जो नित्य नियमित उनके कार्यालय का चक्कर लगाते हैं और प्रेस विज्ञप्तियाँ ले जाते हैं तुम भी आकर ले लिया करो।
मित्रों, पुलिस विभाग में स्थापित पी.आर.ओ. सेल की विज्ञप्तियाँ बजरिए ई-मेल मुझे दैनिक मान्यवर में प्रकाशनार्थ नियमित मिलती हैं, और पुलिस अधिकारियों द्वारा आयोजित प्रेसवार्ता में उपस्थित होने का निमंत्रण भी प्राप्त होता है। परन्तु जिला प्रशासन के मुखिया जिलाधिकारी महोदय द्वारा आहूत किसी भी प्रेसवार्ता में उपस्थित होने के लिए आज तक मुझे जिला सूचना कार्यालय के उक्त दोनों सूचना कर्मियों द्वारा नहीं बुलाया गया।

पूंछने पर इनके द्वारा यह कहा जाता है यहाँ के सभी पत्रकार अफसरों की गणेश परिक्रमा करते हैं और वहीं से समाचार व फोटो भी ले लिया करते हैं ऐसी स्थिति में सूचना कार्यालय द्वारा प्रेस विज्ञप्तियाँ किस लिए जारी की जाएँ? ऐसा क्यों किया जाता है मेरे साथ…….? इसके जितने भी कारण हैं मैं अम्बेडकरनगर के जिला मुख्यालय पर कार्यरत समस्त प्रेस/मीडिया से सम्बद्ध बन्धुओं से जानना चाहूँगी। 
रीता विश्वकर्मा
पत्रकार
जिला प्रतिनिधि
दैनिक मान्यवर (हिन्दी दैनिक)
अकबरपुर, अम्बेडकरनगर (उ.प्र.)
मो. 8765552676

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

फर्जी शिक्षकों को पटना हाई कोर्ट का ऑफर, 7 दिन में पद छोड़े या अंजाम भुगतें !
बिल्डर की दंबगई पर दैनिक भास्कर का "खेला"
मरांडी ने हार्स ट्रेडिंग को लेकर जारी की ऑडियो-वीडियो, कहा- इस्तीफा दें रघुवर
नीतिश सरकार के विभागों का बंटबारा, तेजस्वी बने डिप्टी सीएम
संतो के महासंगम का अनूठा नजारा
विश्व की प्राचीन एवं समृद्ध है भारतीय संस्कृति
भारत में पुलिस और नागरिक संबंधः कल और आज
फिर से लांच होगें ‘द नेशनल हेराल्‍ड’, ‘कौमी आवाज’ और ‘नवजीवन’ अखबार
पत्रकार विनायक विजेता ने भड़ास4मीडिया के यशवंत सिंह से कहा- तथ्यों पर आधारित है उनकी खबर
देखिये, शाहनवाज जैसे फ्रॉड का डंसा मौत से कैसे जुझ रहा एक पत्रकार
काला धन नहीं, काली मुद्रा बाहर लायेगी नोटबंदी
हजारीबाग कोर्ट में गैंगवार, झारखंड में जंगल राज !
गुजराती मोदी को बिहारी मोदी पर नहीं है भरोसा ?
बादल को मंडेला बता कर मजाक के पात्र बने मोदी
पीएम मोदी के नाम लालू का खुला पत्र- 'चेतें अथवा अपना कुनबा समेटें'
इस लॉटरी अर्थव्यवस्था का माई बाप कौन? PayTMPM या FMCorporate ?
नागालैंड में बेगुनाह फरीद की हत्या के पीछे का षड्यंत्र !
बिहार के गया में हुई पत्रकार की हत्या को लेकर शेखपुरा में विरोध मार्च
रीगा विधायक के भाई की है सेलीब्रेट लेडीज मनीषा के साथ बरामद पेजेरो कार
तवायफ की शूटिंग करने पहुंची विद्या बालन संग सपरिवार सेल्फी में मस्त रहे दुमका के डीएम-एसपी
टीवी चैनल वालों के काले कारोबार पर पूण्य प्रसून वाजपेयी की नज़र
OOGLE MAP के लांच नये फीचर से अब ऑफ़लाइन भी मिलेगी दिशा
गोड्डाः  सरकारी पुल निर्माण में बाल श्रम कानून की उड़ रही धज्जियां
SCRB कार्यशाला सह प्रशिक्षण कार्यक्रम में देखिए कितनी गंभीर हैं पुलिस
शहरी 4,400 रु. तो ग्रामीण 2,900 रु. देते हैं हर साल रिश्वत!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...