अमित शाह फिर बने भाजपा के कमांडर

Share Button

amit

अमित शाह को एक बार फिर से बीजेपी की कमान सौंप दी गई है। उन्हें सर्वसम्मति से अगले तीन साल के लिए पार्टी का अध्यक्ष चुना गया।

अमित शाह की बतौर बीजेपी अध्यक्ष ताजपोशी की औपचारिकता रविवार को पूरी कर ली गई। इससे पहले बीजेपी के नए अध्यक्ष के लिए रविवार सुबह उन्होंने नामांकन पत्र दाखिल किया था।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बेहद भरोसेमंद माने जाने वाले शाह को पिछले साल उस वक्त अध्यक्ष चुना गया था, जब राजनाथ सिंह केंद्र में मंत्री बना दिए गए थे। इस मौके पर बीजेपी शासित राज्यों के मुख्यमंत्री और केंद्रीय मंत्री उपस्थित रहे।

रविवार दोपहर को औपचारिक रूप से अमित शाह को फिर से बीजेपी अध्यक्ष चुन लिया गया। शाह अगले तीन साल के लिए बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष रहेंगे।

इस मौके पर बीजेपी संसदीय बोर्ड के सभी सदस्य और तमाम केंद्रीय मंत्री मौजूद रहे। इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार रात बीजेपी के सभी राष्ट्रीय पदाधिकारियों को डिनर के लिए अपने निवास पर आमंत्रित किया था।

शाह के अध्यक्ष रहते बीजेपी महाराष्ट्र, हरियाणा, झारखंड और जम्मू-कश्मीर की सत्ता पर काबिज हुई, लेकिन दिल्ली और बिहार के विधानसभा चुनावों में उसे करारी हार का सामना भी करना पड़ा।

बहरहाल, पार्टी ने इस बात पर जोर दिया कि उनके ‘ऊर्जावान और केंद्रित रहने वाले’ नेतृत्व ने संगठन को मजबूत किया है।

Share Button

Relate Newss:

अब किताब के जरिए रघुबर दास की पोल खोलेंगे सरयु राय!
कोर्ट ने फर्जी खबर छापने के मामले में दैनिक जागरण के मालिक को भेजा जेल
ऐसे लोग बनेंगे प्रेस एडवाइजर, तो रघुवर दास का बेड़ागर्क होना तय
मीडिया के विजय माल्या यानी महुआ चैनल के पीके तिवारी की 112 करोड की सम्पति जब्त
टीवी पर खबर कम तमाशा ज्यादा  :मार्क टुली
न कोई नैतिकता और न कोई समर्पण !
 जलना चाहता हूँ मैं तो बनकर इक दिया,देखो अँधेरा जग में कहीं अब रह न जाये
लोकतंत्र, बिहार और बिहारियों की विजय है महागठबंधन की जीत :शत्रुघ्न सिन्हा
ओम थानवी बने केजरीवाल सरकार विज्ञापन निरानी समिति के अध्यक्ष
न्यूज चैनल के ऑफिस पर ग्रेनेड से हमला, एक मीडियाकर्मी समेत तीन घायल
बिहार में भाजपा की लंका जलाने में मोदी-शाह के विभिषण प्रशांत की रही अहम भूमिका
मद्रास हाई कोर्ट के जज ने कहा- मुझे भारत में पैदा होने पर आती है शर्म !
एक बेईमान एसडीओ  बना जल संसाधन मंत्री ललन सिंह का आप्त सचिव !
राजू अचानक क्यों बन गया जेंटिल मैन?
मोदी जी, परिवारवाद का विरोध या समर्थन ?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...