अमन मार्च कांड के गरीब अभियुक्तों का खर्च उठाएंगे पूर्व विधायक पप्पू खान

Share Button
Read Time:3 Minute, 42 Second

“पूर्व विधायक पप्पू खान ने तमाम मस्जिदों के कमेटी से अपील किया है कि ऐसे विवादित मामलों में पूरी जांच के बाद ही वह कोई फैसला ले और ऐलान करें ताकि शहर का अमन भंग ना हो सके।” 

बिहारशरीफ ( विशेष संवाददाता)। पूर्व विधायक पप्पू खान इन दिनों गगन दीवान आमन मार्च कांड के बाद सुर्खियों में आ गए हैं। उन्होंने अंजुमन मिफिदुल इस्लाम के बैनर तले  छोटी शेखाना में अल्पसंख्यकों की एक बैठक बुलाकर इस कांड के वैसे नामजद अभियुक्तों के केस अपने खर्चे पर लड़ने का ऐलान किया जो आर्थिक रूप से कमजोर हैं। 

उन्होंने इस केस को लड़ने के  लिए बजावता  एस एम आलम अधिवक्ता  को नियुक्त कर दिया  है । साथ ही उन्होंने कहा कि इस कांड के जो भी गरीब लोग  जेल में बंद है उनके जमानत का भी वे खर्चा उठाएंगे।

उन्होंने कहा कि तथाकथित इंसाफ पार्टी द्वारा अमर मार्च के माध्यम से जुलूस निकाला जा रहा था, उस मंच के संयोजक मनमोहन प्रसाद  और  सरफराज अहमद ने किया। जिला प्रशासन की अनुमति के बगैर हर मस्जिद में पर्चे बांटे गए और कुछ मस्जिदों के इमाम के द्वारा नमाज़ी ऐलान भी करवाए गए।  जुलूस में शामिल होने के लिए मासूम जनता को गुमराह किया गया और उसे सोगरा कॉलेज के पास बुलाकर बगैर अनुमति के जुलूस निकालने की कोशिश की गई ।

इसी दौरान प्रशासन और जुलूस में शामिल लोगों के बीच झड़प हुई रोड़ेबाजी हुई और लाठीचार्ज हुए कई बेकसूर लोग भी पीटे गए और जेल भेजे गए।

उन्होंने कहा कि इस कांड में कई पुलिसकर्मी जख्मी भी हो गए थे।  उन्होंने साफ तौर पर कहा कि जो भी बेकसूर लोग होंगे उनका नाम अनुसंधान के दौरान एसपी से हटाने की गुजारिश करेंगे।

उन्होंने कहा कि मि मिफिदुल इस्लाम मुसलमानों की एक बड़ी संस्था है, जो 1978 में वजूद में आया और इस संगठन के द्वारा बहुत सारे सामाजिक काम किए गए यह संस्था समाज और प्रशासन के बीच हमेशा कड़ी का काम करता रहा है।  हाल के दिनों में अंजुमन मृतप्राय हो गया था इस संस्था के अधिकतर लोग गुजर चुके हैं या बूढ़े हो गए हैं।

उन्होंने कहा कि संस्था को  पुनर्जीवित करने के लिए बिहार शरीफ के सभी वार्डों से 10-10 लोगों को सदस्य बनाया जाएगा और सभी सदस्य मिलकर हर महीने मीटिंग करेंगे। साथ ही इस संगठन के अध्यक्ष सचिव और सभी पदों का चुनाव कराया जाएगा ताकि  संगठन को मजबूत बनाया जा सके। और यह संस्था सरकार प्रसाशन के बीच शहर के विवादित मसलो पर कड़ी का काम करे, जिससे बिहार शरीफ का अमन हमेशा बहाल रहे।

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

ब्रजवासी महिलाओं तक नहीं पहुंची है परिवर्तन की किरण
मानव-निर्मित धर्म की क्रूरता से खुद को बचायें
अगर डॉक्टरी न करके गुलामी कबूल कर ली होती तो उसके दुधमुहें बच्चे राख न होते
झारखंड में एसएआर कोर्ट खत्म करने की तैयारी
हाकिमों-नेताओं के दलाल बन गए हैं अखबारों के प्रखंड रिपोर्टर
बिहार का 'डीएनए' ही ऐसा है कि विश्व नेता को जिला नेता भी न रहने दिया
विकास के लूटेरों का अगुआ नगरनौसा बीडीओ खाक देगा सूचना
सड़क पर गजराज, समझिये इनके गुस्से
गुजरात सरकार ने लगाए पोस्टर, बीफ खाने से होती हैं बीमारी
बच्चों के बलत्कारी को नपुसंक बना दिया जाए: मद्रास हाईकोर्ट
ABC ने समाचार पत्र-पत्रिकाओं भेजे ये कड़े निर्देश
संदर्भ दिग्गी-अमृता विवाहः इस स्थिति में क्या करेंगे आप?
मैं कलम का सिपाही हूं, मेरी प्यारी कलम आज उनकी जय बोल
200 सीटें जीतने का दावे के साथ बेफिक्र है महागठबंधन
मोहर्रम जुलूस में बुर्का पहन महिला से छेड़छाड़ करते धराया VHP नेता !
कोयला घोटाले में देश के चार बड़े मीडिया ग्रुप की हिस्सेदारी
मोदी जी का कश्मीर दौरा और उठते राजनीतिक सवाल
नालंदा के थानों में जी हुजूरी करते चौकीदार और अपराधी बने डीएम-एसपी
दस सालों तक सरकारी फाइलो में दबा रहा नालंदा का चंडी रेफरल अस्पताल
गुत्थी संग योग गुरु बाबा रामदेव ने की नाच-कॉमेडी
रांची प्रेस क्लब चुनावः क्या आप ऐसे लोगो को वोट देंगे? जो.....
जरा देखिये, ब्रांडिंग के नाम पर क्या कर रही है रघुवर सरकार
अटल जी को फेसबुक पर संघी बताने वाले प्रोफेसर पर हमला, जिंदा जलाने की प्रयास
बिहार डीजीपी से सीधी बात के बाद पीड़ित पत्रकार ने यूं तोड़ा आमरण अनशन
केजरीवालः व्यवस्था बदलने की जिद में छोड़ी सत्ता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...