आजादी के हनन  को लेकर  नॉर्थ ईस्‍ट इंडिया के 6 प्रमुख अखबारों  के एडिटोरियल स्‍पेस ब्लैंक्स

Share Button

morung twitterउत्‍तर पूर्व भारत (नॉर्थ ईस्‍ट इंडिया) के राज्‍यों के छह अखबारों के संपादकों ने असम राइफल्‍स के आदेश पर प्रतिक्रिया जताते हुए एक सामूहिक बयान जारी किया है।

इसके अलावा इनमें से तीन अखबारों ने विरोध स्‍वरूप आज के अंक में अपने संपादकीय स्‍थान (editorial space) को खाली (blank) छोड़ दिया है।

द मोरंग एक्‍सप्रेस (The Morung Express) ने कहा है, ‘शक्तियों का गलत इस्‍तेमाल कर प्रेस व अभिव्‍यक्ति की आजादी के अधिकारों का हनन किया जा रहा है। ऐसे में राष्‍ट्रीय प्रेस दिवस पर अपने संपादकीय स्‍थान को खाली छोड़कर अखबार अपनी स्‍वतंत्रता को व्‍यक्‍त कर रहा है।’

गौरतलब है कि 25 अक्‍टूबर 2015 को असल राइफल्‍स के जनरल स्‍टाफ के कर्नल ने नगालैंड स्थित पांच मीडिया प्रतिष्‍ठानों के संपादकों को एक अधिसूचना (notification) जारी की थी।

इसमें विभिन्‍न अखबारों के संपादकों द्वारा वर्तमान परिस्थितियों में बल की भूमिका के बारे में सोच-समझकर व काफी जांच और उनसे परामर्श के बाद कुछ भी लिखने की बात कही गई थी।

इसके साथ ही इन मीडिया संस्‍थानों पर प्रतिबंधित संगठनों की रिपोर्टिंग कर अवैध कार्यों में लिप्‍त होने, कानूनी गतिविधियों का उल्‍लंघन करने और गैरकानूनी संगठनों को जाने-अनजाने में समर्थन करने जैसी बात कही गई थी।

असम राइफल्‍स के कर्नल की ओर से जारी इस अधिसूचना का ही अखबार मालिक विरोध कर रहे हैं।

Share Button

Relate Newss:

सावधान! जमशेदपुर-सरायकेला के ग्रामीण ईलाकों में ‘केसरी गैंग’ ने मचा रखा है यूं कोहराम
न्यूड वीडियो के जरिए पाकिस्तानी महिला जासूस ने फौजी को फंसाया
सत्ता का इस्तेमाल करने में दैनिक प्रभात खबर का कोई सानी नहीं
फेसबुक पर सनसनी मचा रहा है तेजस्वी-चिराग का ‘वायरल’
बिहार डीजीपी को पत्रकार प्रेस मेंस यूनियन ने सौंपा अहम ज्ञापन, मिला भरोसा
पगलाया बिहार नगर विकास एवं आवास विभाग, यूं बनाया 2 दिन का सप्ताह
कर्नाटक सरकार की टीपू जयंती समारोह का विरोध करेगी RSS
संकट में सुबोध, नहीं मान रहे युवराज !
16 टन का भार दांतो से खींचने वाले राजेन्द्र ने दी खुली चुनौती
'रघुबर सरकार ने रांची की निर्भया कांड की CBI जांच की अनुशंसा तक नहीं की'
बड़े बेआबरू होकर तेरे कूचे से हम चले....
हार्ट अटैक से नहीं हुई भास्कर समूह संपादक कल्पेश की मौत, पुलिस मान रही है सुसाइड
मैं सरकारी कर्मचारी नहीं, प्रेस परिषद का अध्यक्ष हूं :जस्टिस काटजू
केजरीवालः व्यवस्था बदलने की जिद में छोड़ी सत्ता
बराक ओबामा की शान या उनकी कायरता की पहचान !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...