आजादी के हनन  को लेकर  नॉर्थ ईस्‍ट इंडिया के 6 प्रमुख अखबारों  के एडिटोरियल स्‍पेस ब्लैंक्स

Share Button

morung twitterउत्‍तर पूर्व भारत (नॉर्थ ईस्‍ट इंडिया) के राज्‍यों के छह अखबारों के संपादकों ने असम राइफल्‍स के आदेश पर प्रतिक्रिया जताते हुए एक सामूहिक बयान जारी किया है।

इसके अलावा इनमें से तीन अखबारों ने विरोध स्‍वरूप आज के अंक में अपने संपादकीय स्‍थान (editorial space) को खाली (blank) छोड़ दिया है।

द मोरंग एक्‍सप्रेस (The Morung Express) ने कहा है, ‘शक्तियों का गलत इस्‍तेमाल कर प्रेस व अभिव्‍यक्ति की आजादी के अधिकारों का हनन किया जा रहा है। ऐसे में राष्‍ट्रीय प्रेस दिवस पर अपने संपादकीय स्‍थान को खाली छोड़कर अखबार अपनी स्‍वतंत्रता को व्‍यक्‍त कर रहा है।’

गौरतलब है कि 25 अक्‍टूबर 2015 को असल राइफल्‍स के जनरल स्‍टाफ के कर्नल ने नगालैंड स्थित पांच मीडिया प्रतिष्‍ठानों के संपादकों को एक अधिसूचना (notification) जारी की थी।

इसमें विभिन्‍न अखबारों के संपादकों द्वारा वर्तमान परिस्थितियों में बल की भूमिका के बारे में सोच-समझकर व काफी जांच और उनसे परामर्श के बाद कुछ भी लिखने की बात कही गई थी।

इसके साथ ही इन मीडिया संस्‍थानों पर प्रतिबंधित संगठनों की रिपोर्टिंग कर अवैध कार्यों में लिप्‍त होने, कानूनी गतिविधियों का उल्‍लंघन करने और गैरकानूनी संगठनों को जाने-अनजाने में समर्थन करने जैसी बात कही गई थी।

असम राइफल्‍स के कर्नल की ओर से जारी इस अधिसूचना का ही अखबार मालिक विरोध कर रहे हैं।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *