अब वेब जर्नलिस्टों को भी मिलेगा वेलफेयर स्कीम का लाभ

Share Button
Read Time:2 Second

 इस योजना को केंद्र सरकार ने फरवरी 2013 में लागू किया था, लेकिन अब इसमें संशोधन किया गया है…………”

राज़नामा डेस्क।  देश भर के जर्नलिस्टों को केंद्र सरकार ने एक खास ‘तोहफा’ दिया है। दरअसल, सरकार ने ‘पत्रकार वेलफेयर स्कीम’ में संशोधन कर दिया है। इसके बाद अब यह देशभर के सभी जर्नलिस्टों के लिए लागू हो गई है।

इस योजना का लाभ यह है कि यदि किसी पत्रकार का निधन हो जाता है अथवा किसी कारण से वह दिव्यांग हो जाता है तो सरकार की ओर से उस पत्रकार के आश्रितों को पांच लाख रुपए की आर्थिक सहायता दी जाएगी। वहीं, इलाज के लिए भी पत्रकार को सरकार पांच लाख रुपए की आर्थिक सहायता देगी।

संशोधन के तहत अब इस योजना में केंद्र या राज्य सरकार से अधिस्वीकृत पत्रकार होने का कोई बंधन नहीं है। वहीं, वेब और टीवी जर्नलिस्टों को भी इस योजना के तहत लाभ मिलेगा।

सभी अखबारों के संपादक, उप संपादक, रिपोर्टर, फोटोग्राफर, कैमरामैन, फोटो पत्रकार, फ्रीलांस जर्नलिस्ट, अंशकालिक संवाददाता और उन पर आश्रित परिजनों को भी इस योजना के दायरे में रखा गया है।

इसका लाभ उन्हीं जर्नलिस्टों को मिलेगा, जिन्होंने कम से कम पांच साल तक पत्रकार के रूप में अपनी सेवाएं दी होंगी।

बता दें कि इस योजना को केंद्र सरकार ने फरवरी 2013 में लागू किया था, लेकिन अब इसमें संशोधन किया गया है। इस योजना की पात्रता के लिए एक समिति भी गठित की गई है।

इस समिति के संरक्षक केंद्रीय सूचना और प्रसारण मंत्री होंगे। विभाग के सचिव अध्यक्ष होंगे और सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के उप सचिव अथवा निदेशक सदस्य इसके संयोजक होंगे।

यह समिति पीड़ित पत्रकार या फिर उनके परिजनों के आवेदन पर विचार करेगी और उसके बाद आर्थिक सहायता देने का फैसला लेगी।

इस बारे में अधिक जानकारी के लिए महानिदेशक (मीडिया एवं संचार), प्रेस इंफॉर्मेशन ब्यूरो, ‘ए’ विंग, शास्त्री भवन, नई दिल्ली -110001 से भी संपर्क किया जा सकता है।

इस योजना का लाभ उठाने के लिए पत्रकार अथवा उनके परिजन निर्धारित फॉर्म पर अपने आवेदन दिए गए पते पर भेज सकते हैं।इस फॉर्म का नमूना प्रेस इंफॉर्मेशन ब्यूरो की वेबसाइट www.pib.nic.in  अथवा यहां क्लिक कर प्राप्त किया जा सकता है।

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

ओझागुनियों से रोज थाने में लगवाएं हाजरी :रघुवर दास
शोसल नेटवर्किंग का विस्तार और मानवीय अलगाव के खतरे
राजगीर में बना फर्जी पत्रकार संघ, नियोजित शिक्षक बना कोषाध्यक्ष
प्रिंट मीडिया के लिये यह है आत्म-चिंतन का समय
इन दिनों काफी सुर्खियों में है सरायकेला दैनिक जागरण का यह रिपोर्टर !
नालंदा में अपराधी बेलगाम, हरनौत में गोली मार कर हत्या
41 साल से 1 रूपये 04 पैसे की रखवाली में एबीसी को छूट रहे पसीने !
भ्रष्ट बीडीओ की गिरफ्तारी का मामला खोल रही रघु’राज की जीरो टालरेंस की पोल !   
ममता बनर्जी संग लंदन गये भारतीय पत्रकारों ने चुराई चांदी के चम्मच, 50 पौंड जुर्माना दे छूटे
सपा विधायक लक्ष्मी गौतम और पति के बीच सरेआम मारपीट !
मीडिया की विश्वसनीयता पर स्वाभाविक संकट
मोदी जी को बेटा नहीं है तो इसमें मैं क्या करुं :हेमंत सोरेन
साजिश के तहत मेरी खबर को नगेटिव प्लांट किया गयाः हरीश रावत
पत्रकारों के लिए एशिया का पाक-अफगानिस्तान से खतरनाक देश है भारत !
पगलाया बिहार नगर विकास एवं आवास विभाग, यूं बनाया 2 दिन का सप्ताह
भूमि अधिग्रहण संशोधन बिल पर बिहार के सीएम की कविता
सुदर्शन न्यूज चैनल के मालिक सुरेश चव्हाणके पर यौन शोषण का आरोप
बाबूलाल मरांडी  ने खुद खोल ली अपनी राजनीति की कलई !
मैं इस जलती कलम से क्या लिखूं
सीएम से पंगा लेने के बाद फौरन हटाए गए सीएस !
पत्रकार विनायक विजेता ने भड़ास4मीडिया के यशवंत सिंह से कहा- तथ्यों पर आधारित है उनकी खबर
रांची नगर निगमः 2 मिनट में 920 करोड़ का बजट पास !
मोदी जी, परिवारवाद का विरोध या समर्थन ?
बिहार सरकार के सचिव ने दैनिक जागरण के मुंगेर संस्करण का दिया जांच का आदेश
ओम थानवी बने केजरीवाल सरकार विज्ञापन निरानी समिति के अध्यक्ष

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
mgid.com, 259359, DIRECT, d4c29acad76ce94f
Close
error: Content is protected ! www.raznama.com: मीडिया पर नज़र, सबकी खबर।