सुरक्षा गार्डों से भयभीत हैं प्रधानमंत्री की पत्नी यशोदाबेन!

Share Button

yashoda_modiदेश के सबसे प्रभावशाली प्रधानमंत्री बन कर उभरे नरेन्द्र मोदी की पत्नी यशोदाबेन मोदी बिना मांगे मिले सरकारी सुरक्षा गार्डों से भयभीत हैं।

बीबबीसी हिन्दी के अनुसार  अपनी आरटीआई अर्ज़ी में पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या का ज़िक्र करते हुए जशोदाबेन का कहना है कि उन्हें अपने सुरक्षा गार्ड्स से डर लगता है।

इसके पहले फोन पर बात करते हुए जशोदाबेन ने कहा था कि “मुझे किस सरकारी ऑर्डर के तहत सुरक्षा दी गई है। मुझे यह प्रोटोकॉल क्यों मिला है?  मुझे नियम के हिसाब से न्याय नहीं मिला है। यदि मुझे सिक्योरिटी दी गई है तो अन्य अधिकार भी मिलने चाहिए।”

जशोदाबेन ने कहा था  कि “मुझे सुरक्षा कवच की वजह से बहुत परेशानी होती है। मैं सरकारी बस में सफ़र करती हूँ और मेरे साथ वाले सुरक्षाकर्मी कार में घूमते हैं। वे लोग साथ में होते हैं तो डर लगता है।”

jashoda-benजशोदाबेन का परिवार वाले भी नाखुश है।  जशोदाबेन के भाई अशोकभाई मोदी ने कहा कि “यह राजनीति हम नहीं समझ सकते। अब हमें और कुछ नहीं जानना। यह जानकारी देने से मना कर दिया है इससे मेरी बहन भी उदास है पर वह कुछ बोल नहीं रही और इस बात का मुझे दुःख है।”

उल्लेखनीय है कि रिटायर्ड स्कूल टीचर की ज़िंदगी बसर कर रही जशोदाबेन गुजरात के ईश्वरवाड़ा गांव में अपने भाई अशोकभाई के साथ रहती हैं।

अपनी सरकारी सुरक्षा की बाबत पिछले महीने उन्होंने गुजरात के मेहसाणा ज़िले के पुलिस अधीक्षक से आरटीआई के तहत जानकारी मांगी थी।

मेहसाणा पुलिस ने यह कहते हुए जानकारी देने से इनकार कर दिया कि यह स्थानीय ख़ुफ़िया ब्यूरो (एलआईबी) से संबंधित है।

मेहसाणा ज़िला पुलिस अधीक्षक के अनुसार  ‘‘जो जानकारी जशोदाबेन ने मांगी है वह स्थानीय ख़ुफ़िया ब्यूरो से संबंधित है। पर ख़ुफ़िया ब्यूरो आरटीआई के दायरे में नहीं आता लिहाजा यह उनको नहीं दी जा सकती।  हमने इस घटनाक्रम के बारे में लिखित पत्र उन्हें भेज दिया है’’।

Share Button

Relate Newss:

भारतीय राजनीति में वंशवाद के टॉप10 नये पौध
वाह री नालंदा पुलिस ! साजिशन हमले के शिकार पत्रकार को ही बना डाला मुख्य आरोपी
रघु'राज में भी बेलगाम हैं प्रदेश के निजी स्कूल
नई दिल्ली डीएवीपी और पटना सूचना जनसम्पर्क विभाग के अफसर अरेस्ट होंगे!
वेशक चार आने की धनिया है “एशिया” के ये लफंगे पत्रकार
टीवी पर खबर कम तमाशा ज्यादा  :मार्क टुली
दैनिक जागरण के इस इंटरनल मेल ने खोली मीडिया की यूं कलई
भगवान बिरसा जैविक उद्दान में लूट और मनमानी का आलम
पीएम मोदी के सामने डरते-कांपते पंजाब केसरी के मालिक!
सीएम रघुबर दास ने आरोपी अभियंता संग डाली गलबहियां !
पटना के गांधी मैदान में हुई रैली थी तिलांजलि सभाः मोदी
चुनाव जीतने के बाद लालटेन लेकर सबसे पहले बनारस जाएंगे लालू
सांसद रामटहल चौधरी तक के घर की नाली का पानी स्कूल परिसर में होता है जमा
महिला नागा साधु की एक अदभुत तस्वीर यूं हो रही वायरल
लोकतंत्र, बिहार और बिहारियों की विजय है महागठबंधन की जीत :शत्रुघ्न सिन्हा

One comment

  1. यही असली राम राज है। सीता को सताना रामायण का सार है। कभी रावण तो कभी राम।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...