अंधविश्वास में फंसे नाग ‘देवता’ !

Share Button

बिहार प्रांत के बरबीघा जिले के शेरपर अवस्थित गुरू मेहर की समाही स्थल पर फंसे इस नाग देवता को दूध पिलाने के लिए लोग साहस दिखा रहे है और नजदीक जाकर उनके आगे दूध का कटोरा रख देते है।

snakeयह समाधी संगत मठ के संत गुरू मेहर जी की है।

जानकार बताते है कि यहां नानक देव के अनुयायिओं के द्वारा मठ बनाया गया था और धर्म का प्रचार प्रसार किया जाता था। आज सामाधी स्थल पे नाग देखे जाने से लोग दूध पिलाने उमड़ गए।

 हलांकि यही सांप यदि दूसरे जगह होता तो मारा जाता पर मंदिर में है इसलिए इसकी पूजा हो रही है…।

यह संगत मठ नानक देव के अनुयायिओं के द्वारा तीन चार सौ साल पुर्व ही स्थापित किया गया था उसी दौरान संत गुरू मेहर जी दो सौ साल पुर्व इसी समाधी स्थल पर जीवित समाधी ली थी, जिनकी पूजा प्रति दिन उनके द्वारा किया जाता है।

अब मंदिर के बाहर लोगों का हुजूम जुटा है और नाग देवता अंदर फंसे हुए है। यह धु्रव सत्य है कि वे दूध नहीं पीते पर अंधविश्वास को तोड़ना आसान भी नहीं.. बेचारे नाग देवता भूख से तड़प रहे है …

……बरबीघा,बिहार से पत्रकार अरुण साथी के फेसबुक वाल से

Share Button

Relate Newss:

जयललिता की तर्ज पर धमकियां दिलवा रहे हैं सीएम :सुशील मोदी
दैनिक जागरण के इस इंटरनल मेल ने खोली मीडिया की यूं कलई
जमशेदपुर ब्लड बैंक में करोड़ों की उगाही का धंधा
...और राजगीर की मीडिया को यूं ऐड़ा बना पेड़ा खिला गया रोपवे प्रभारी
गद्दार हैं ‘70 वर्षों में देश में कुछ नहीं हुआ’ कहने वाले
बीडीओ के इस अमानवीय कुकृत्य के खिलाफ कार्रवाई सुनिश्चित करे सरकार
राजेन्द्र जैसे प्रेरक युवाओं को सरकारी प्रोत्साहन की जरुरत
मोदी जी ने 370 एकड़ वन भूमि से अडानी का एहसान चुकाया
रघुवर दास के बेटे के 'SEX AUDIO' पर हाईकोर्ट में याचिका
खूंटी में विकास के ये कैसे रास्ते हैं ?
प्लास्टिक के तिरंगे का उपयोग पर होगी तीन साल की कैद !
अटपटा लग रहा है रांची की ‘लव-जेहाद’ का एंगल !
शशि थरुर, सुनंदा पुस्कर और सोशल साइट
मीडिया के विरुद्ध पब्लिक ट्रायल की जरुरतः केजरीवाल
जी न्‍यूज पर चली झूठी खबर को सच बनाने में सारे चैनल टूट पड़े

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...