अंततः मोदी सरकार ने SC को सौंपे तीन सीलबंद लिफाफे

Share Button
Read Time:3 Minute, 12 Second

black_money

अंततः केंद्र सरकार ने आज काला धन मामले में विदेशी खाताधारकों की पूरी लिस्‍ट सीलबंद लिफाफे में सुप्रीम कोर्ट को सौंप दी।

कहा जा रहा है कि इस लिस्‍ट में 627 लोगों के नाम हैं। इनमें से आधे भारतीय और आधे एनआरआई हैं।

एनआरआई भारतीय आयकर कानून के दायरे में नहीं आते। इसका मतलब यह हुआ कि इन खातेदारों की जांच नहीं की जा सकेगी।

सुप्रीम कोर्ट में सरकार ने तीन सीलबंद लिफाफे सौंपे। जिनमें से एक में काला धन मामले में अभी तक हुई जांच की स्‍टेटस रिपोर्ट थी।

एच.एल. दत्‍तू की अध्‍यक्षता वाली पीठ ने लिफाफे खोलने से इनकार करते हुए इसे तत्‍काल एसआईटी के हवाले कर दिया।

सुप्रीम कोर्ट ने लिफाफे में सौंपे गए खातेदारों के मामलों की शुरुआती जांच मार्च 2015 तक पूरी करने का निर्देश दिया।

एसआईटी करेगी जांच

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि काला धन मामले पर आगे क्‍या कार्रवाई करनी है, इसका फैसला एसआईटी द्वारा किया जाएगा।

सुप्रीम कोर्ट ने कहा, ‘एसआईटी हमारा अंग है और हमें उस पर भरोसा है। उसके अध्यक्ष और उपाध्यक्ष ही खाताधारकों के नामों वाला सीलबंद लिफाफा खोल सकते हैं।’

इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने एसआईटी को निर्देश दिया कि वह मार्च 2015 तक काला धन मामले में अपनी शुरुआती जांच पूरी करे।

सरकार ने सौंपे तीन सीलबंद लिफाफे

सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में कालाधन मामले में तीन सीलबंद लिफाफे सौंपे। पहले में विदेशी खाताधारकों के नाम थे।

दूसरे में दूसरे देशों के साथ हुई संधि के कागजात थे और तीसरे में जांच की स्टेटस रिपोर्ट थी।

सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि इसमें साल 2006 तक की एंट्री है। इसकी वजह यह है कि स्विस अधिकारियों ने इस बारे में जानकारी देने से यह कहते हुए इनकार कर दिया था कि ये इनपुट्स चोरी की जानकारी के आधार पर हासिल किए गए हैं।

अटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने बताया कि खाताधारकों के नामों के साथ इन लोगों के खिलाफ अब तक हुई जांच की स्टेटस रिपोर्ट भी दाखिल की जा रही है।

सूत्रों का कहना है कि लिस्ट में एचएसबीसी बैंक के जिनेवा ब्रांच में खाता रखने वाले भारतीयों के नाम हैं, जो भारत सरकार को फ्रांस सरकार की ओर से मिले थे। (एजेंसी)

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

तिरंगा यात्रा की नहीं छपी खबर, प्रायः नामचीन अखबारों की जलाई प्रतियां
राजगीर मलमास मेला सैरात भूमि अतिक्रमण मामले में प्रशासन के साथ न्यायालय भी कटघरे में
घबराहट-बौखलाहट में बिहार डायरी-2019 से हटाये गए प्रायः सभी न्यूज पोर्टल 
.....और यूं 4 माह बाद जेल से बाहर निकले पत्रकार वीरेंद्र मंडल व उनके पिता
पत्रकारिता से मुश्किल काम है राजनीति :आशुतोष
आपकी आंखों के सामने की ऐसी तस्वीर झकझोरती है रघुबर साहब
'रघुबर सरकार ने रांची की निर्भया कांड की CBI जांच की अनुशंसा तक नहीं की'
सुशासन बाबू के जीरो टॉलरेंस का बेड़ा गर्क करते यूं दिखे नालंदा सांसद
राजग को 300 सीटें आ भी जाएं तो कैसे आईं, यह कौन बताएगा?
पहले 'जय जवान,जय किसान' और अब 'मर जवान,मर किसान'
धनबाद से यूं धराया पत्रकार गौरी लंकेश हत्याकांड का मुख्य साजिशकर्ता
जितनी हुई लानत मलामत, उतना ही बढ़ा कद !
पार्टी नेता पुत्री से प्रेम विवाह करने वाला पूर्व रालोसपा प्रदेश अध्यक्ष लापता
'व्यापमं घोटाला' में मप्र के सीएम भी शामिल
बिहारः बारह टकिया 'लाइनर' और 'स्ट्रिंजर' कहलाते हैं पत्रकार !
..और अब यूं वेब न्यूज पोर्टल चलाएंगे वरिष्ठ पत्रकार आशुतोष
कमीशन के खेल में फंसी रांची की मेयर आशा लकड़ा
शाहरुख खान को लेकर अनाप-शनाप न बोलें BJP के नेता :अनुपम खेर
फोटो छापियेगा तो फांसी लगा लेंगे !
पीएम को विज्ञापन बनाने वाले जिओ पर महज 500 जुर्माना !
रांची कोर्ट में लालू से भाजपा के इस सांसद की भेंट एक बड़े राजनीतिक भूचाल के संकेत
विदर्भ में कब आयेगें अच्छे दिन, पिछले 72 घंटो में 12 किसानों ने की आत्महत्या
बिहार में निष्क्रिय है चुनाव आयोग, भाजपा के खिलाफ कार्रवाई नहीं :महागठबंधन
संयोग या दुर्योग ? सीपी सिंह पर पड़ ही गया मनोज कुमार का साया !
राहुल के खिलाफ मोदी ने क्यों नहीं लड़ा चुनाव: मायावती

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...